उत्तराखंड

BJP विधायक महेश जीना को रौब दिखाना पड़ा महंगा, टेंडर मामले में बदसलूकी पर एफआईआर दर्ज

देहरादून नगर निगम में नगर आयुक्त गौरव कुमार और अन्य कर्मचारियों के साथ अभद्रता के मामले में सल्ट के विधायक महेश जीना के खिलाफ कोतवाली में मुकदमा दर्ज किया गया है। उन पर बलवा करने, सरकारी कार्य में बाधा डालने और गाली गलौज और जान से मारने की धमकी देने का आरोप है।

मुकदमे में चार अन्य भी आरोपी बनाए गए हैं। सल्ट विधायक जीना मंगलवार को नगर निगम कार्यालय पहुंचे थे। आरोप है कि उन्होंने निगम के अधिकारियों से गाली गलौज की और कर्मचारियों को जान से मारने की धमकी दी।

मामले में बुधवार को नगर निगम के चालक संघ के सचिव यशपाल सिंह की ओर से कोतवाली में तहरीर दी गई। इस पर कोतवाली पुलिस ने मामले में मुकदमा दर्ज कर लिया। उधर, मामले में विधिक जांच गढ़वाल कमिश्नर कर रहे हैं।

कर्मचारी माफी पर अड़े, हड़ताल से सफाई ठप
नगर आयुक्त और निगम के वरिष्ठ लिपिक से अभद्रता के विरोध में कर्मचारियों की हड़ताल के चलते नगर निगम के सौ वार्डों में बुधवार को डोर-टू-डोर कूड़ा नहीं उठा। कार्यालय में भी कामकाज पूरी तरह ठप रहा। नगर निकाय कर्मचारी महासंघ और अखिल भारतीय सफाई मजदूर संघ के पदाधिकारियों ने कहा कि मामले में सल्ट विधायक को सार्वजनिक रूप से माफी मांगनी होगी, नहीं तो कर्मचारी हड़ताल जारी रखेंगे।

कर्मचारी संगठनों का आरोप है कि मंगलवार दोपहर सल्ट विधायक महेश जीना ने कूड़ा निस्तारण के टेंडर को लेकर नगर आयुक्त गौरव कुमार और वरिष्ठ लिपिक पवन थापा से अभद्रता की है। इसी के विरोध में निगम के सौ वार्डों में बुधवार को डोर-टू-डोर कूड़ा उठाने का काम ठप रहा। सार्वजनिक जगहों और कारगी डंपिंग साइट पर भी कूड़े के ढेर लग गए।

वहीं नगर निगम कार्यालय में सभी कर्मचारी हड़ताल पर रहे। ऐसे में जन्म-मृत्यु प्रमाण पत्र नहीं बने, हाउस टैक्स जमा नहीं हो पाया। इसके अलावा भी समस्त अनुभागों में कामकाज प्रभावित रहा। टैक्स जमा करने और प्रमाण पत्र आदि बनवाने के लिए निगम पहुंचे लोगों को निराश होकर लौटना पड़ा।

नगर आयुक्त गौरव कुमार ने फिलहाल मंगलवार को हुए घटनाक्रम पर कोई टिप्पणी करने से इंकार कर दिया। उन्होंने कहा कि उन्होंने शासन स्तर पर मामले की विस्तृत जानकारी दे दी है। वह दोपहर के समय वरिष्ठ अधिकारियों से मिलने सचिवालय भी पहुंचे थे। विधायक के खिलाफ के खिलाफ नगर निगम कर्मचारी संघ के अध्यक्ष नाम बहादुर, सचिव सतेंद्र कुमार, नगर निगम सफाई कर्मचारी संघ के अध्यक्ष राजेश कुमार, धीरज भारती और नगर निगम वाहन चालक संघ के अध्यक्ष स्वर्ण सिंह पंवार और सचिव यशपाल सिंह की तरफ से दी गई। जिस पर मुकदमा दर्ज किया गया।

कांग्रेसियों ने किया महायज्ञ : सल्ट। भाजपा विधायक महेश जीना की सद्बुद्धि के लिए कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने महायज्ञ का आयोजन किया। कार्यकर्ताओं ने कहा कि भाजपा राज में विधायक सलीका भूल गए हैं। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता नारायण सिंह रावत ने आरोप लगाया कि महेश जीना जब से विधायक बने हैं, उन्होंने नियम और मर्यादा को ताक पर रख दिया है।

टेंडर को लेकर हुआ विवाद नहीं थमा
सूत्रों ने बताया कि सहस्त्रत्त्धारा रोड पर स्थित जिस डंप कूड़े के निस्तारण के लिए नगर निगम ने टेंडर जारी किया है, सारा विवाद उसे लेकर ही हुआ है। टेंडर को लेकर जानकारी लेने पहुंचे विधायक ने इस बात को लेकर नाराजगी जताई थी कि आखिर एक निजी कंपनी के कंसल्टेंट से उनकी बात क्यों करवाई जा रही है। जबकि नगर निगम के संबंधित अधिकारियों को खुद उनकी बात सुननी चाहिए थी।

विपक्षी दलों ने कर्मचारियों को दिया समर्थन
विपक्षी दलों सीपीएम, सीपीआई, आप के पदाधिकारियों ने नगर निगम के कर्मचारियों को अपना समर्थन दिया है। सीपीएम से अनन्त आकाश, सीपीआई से एसएस रजवार, आप से अशोक सेमवाल, आयूपी से नवनीत गुंसाई, सीटू से लेखराज आदि शामिल हैं। राष्ट्रीय जमीनी कांग्रेस कार्यकर्ता संगठन के महासचिव चौधरी नरेश वैध ने राज्यपाल से विधायक के खिलाफ करने की मांग की है।

कर्मचारियों का विधायक के खिलाफ प्रदर्शन
देहरादून नगर निगम के कर्मचारियों ने बुधवार को निगम कार्यालय के बाहर भाजपा विधायक महेश जीना के खिलाफ प्रदर्शन किया। कर्मचारी संगठन के पदाधिकारियों ने कहा कि यदि सरकार ने एक्शन नहीं लिया तो शहर की सफाई व्यवस्था पटरी से उतर जाएगी।

इस दौरान महासंघ के अध्यक्ष नाम बहादुर, नगर निगम सफाई कर्मचारी संघ के अध्यक्ष राजेश कुमार, सचिव धीरज भारती, नगर निगम वाहन चालक संघ के अध्यक्ष स्वर्ण सिंह पंवार, सचिव यशपाल सिंह के अलावा अन्य कर्मचारी मौजूद थे।

Leave a Response