उत्तराखंड

BSP सुप्रीमो मायावती ने नेताओं को लखनऊ किया तलब, लोकसभा चुनाव के बाद किस बात की टेंशन?

लोकसभा चुनाव में बेहद कमजोर प्रदर्शन की वजह तलाशने के लिए बसपा राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती ने पार्टी के पदाधिकारियों को 23 जून को लखनऊ तलब कर लिया है। इस बैठक में बसपा का नया संगठनात्मक स्वरूप भी तय हो सकता है।इसके साथ ही भावी राजनीतिक तैयारियों का खाका भी खींचा जाएगा। राजनीतिक विशेषज्ञों की बात मानें तो चुनाव के दौरान लापरवाही करने वाले नेताओं पर ऐक्शन भी हो सकता है। बीएसपी हाईकमान की ओर से समन मिलने के बाद प्रदेश में नेताओं के बीच खासी हलचल मची हुई है।

बसपा के उत्तराखंड प्रदेश अध्यक्ष चौधरी शीशपाल सिंह ने इसकी पुष्टि की। उन्होंने बताया कि राष्ट्रीय अध्यक्ष की बैठक से पहले 10 जून को पार्टी के वरिष्ठ पदाधिकारी हरिद्वार स्थित पार्टी मुख्यालय में राज्य के चुनाव नतीजों पर मंथन करेंगे।वर्तमान लोकसभा चुनाव में बसपा का उसका अपने सबसे मजबूत गढ़ हरिद्वार में सबसे कमजोर प्रदर्शन रहा है। टिहरी सीट पर जरूर बसपा अपना मत प्रतिशत बढ़ाने में कामयाब रही है। चौधरी ने बताया कि सभी पहलुओं का अध्ययन करते हुए अपनी खामियों को चिन्हित किया जाएगा।

मंगलौर सीट पर भी निर्णय 23 जून को

लोकसभा चुनाव के बाद बसपा ने मंगलौर विधानसभा सीट के उपचुनाव पर फोकस किया है। सूत्रों के अनुसार 23 जून को राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती की अध्यक्षता में लखनऊ में प्रस्तावित समीक्षा बैठक में उपचुनाव पर भी फैसला लिया जा सकता है। यह सीट बसपा विधायक सरबत करीम अंसारी के निधन से खाली हुई है। सूत्रों के अनुसार इस सीट पर अंसारी के बेटे उबैर्दुरहमान को टिकट दिया जा सकता है।

Leave a Response