उत्तराखंड

UP के बदमाशों ने की थी बाबा तरसेम सिंह की हत्या! पुलिस के कई ठिकानों पर दबिश

यूपी के रहने वाले बदमाशों पर खास नजर रखी जा रही है। पुलिस टीमें यूपी के कई शहरों में कैंपिंग की हुई है। पुलिस सूत्रों की बात मानें तो नानकमत्ता धार्मिक डेरा कार सेवा के प्रमुख जत्थेदार बाबा तरसेम सिंह की हत्या की गुत्थी सुलझाने के लिए पुलिस को कई महत्वपूर्ण इनपुट भी मिले हैं। पुलिस टीमें यूपी में दिन-रात दबिश दे रही हैं।

पुलिस की टीम कई शरणदाताओं तक पहुंच चुकी है। विदित हो कि 28 मार्च की सुबह बाबा तरसेम सिंह की बाइक सवार दो बदमाशों ने हत्या कर दी थी। हत्या के बाद से प्रदेशभर की पुलिस, जांच इकाइयां आरोपियों की गिरफ्तारी व हत्या के सूत्रधारों को खोजने में जुटी हैं।

नानकमत्ता से लेकर यूपी, पंजाब के शहरों, गांवों में सीसीटीवी फुटेज खंगाल रही हैं। बाइक सवारों की लोकेशन और शरणदाताओं को ट्रेस करने के लिए सर्विलांस टीमें भी दिन-रात जुटी हैं। आरोपियों को आर्थिक सहयोग व शरण देने वालों तक पुलिस की टीमें पहुंचने की जानकारी मिली है।

बताया जा रहा है कि यूपी के शाहजहांपुर से हत्या के आरोपियों से लगातार सम्पर्क हो रहा था।  सूत्र बताते हैं कि शूटर को फंडिंग करने के एक आरोपी तक पुलिस पहुंच चुकी है। वहीं शनिवार देर रात दोनों आरोपियों पर ऊधमसिंह नगर पुलिस ने 25-25 हजार रुपये का इनाम घोषित किया। वहीं एसएसपी मंजूनाथ ने बताया कि यूपी में भी पुलिस टीम संदिग्धों से पूछताछ कर रही है।

संदिग्ध सेवादार के मोबाइल से राज खुलने की उम्मीद
पुलिस सूत्रों के मुताबिक बाबा तरसेम सिंह की हत्या के दिन बदमाशों को उनकी लोकेशन बताने का शक एक संदिग्ध सेवादार पर है। पुलिस को उससे कई कड़ियां मिलने की उम्मीद है। संदिग्ध व्यक्ति गुरुद्वारा में सेवादार है।

वह पूर्व में डेरा में सेवादार रह चुका है। उस पर घटना के दिन बाबा तरसेम सिंह के अकेले बैठे होने की जानकारी देने से लेकर मुख्य गेट खोलने का शक है। संदिग्ध सेवादार के पास से बरामद मोबाइल व उसकी कॉल डिटेल से स्थानीय व बाहरी लोगों से हुए सम्पर्क से कई शरणदाताओं के नाम सामने आ सकते हैं।

संदिग्ध सेवादार से बदमाशों को मिलाने वाले भी पुलिस की जांच के दायरे में हैं। पुलिस कई सेवादारों व कर्मचारियों से भी पूछताछ कर चुकी है।

नौ दिन तक सराय में रहने पर भी पूछताछ

आरोपी सरबजीत सिंह और अमरजीत सिंह 19 मार्च से सराय में कमरा बुक कर नौ दिनों तक रहे। सामान्यत तीन दिनों तक ही यात्री रहते हैं। लेकिन नौ दिनों तक कमरे में रहने पर पुलिस सराय के सेवादारों से भी पूछताछ कर रही है। यहां सीसीटीवी फुटेज खंगाले गए हैं।

बाबा को कई दिनों से ट्रेस कर रहे थे बदमाश
बाबा तरसेम सिंह 26 मार्च को नानकपुरी टांडा गुरुद्वारा गए थे। बताया जा रहा है कि बाबा कुछ घंटे वहां रुकने के बाद वापस नानकमत्ता लौट आए थे। बताया जा रहा है कि इस दौरान बदमाशों की भी नानकपुरी टांडा में लोकेशन मिली है। यानि 19 मार्च से बदमाश बाबा पर नजर रखे हुए थे।

हालांकि डेरा व आसपास के सीसीटीवी कैमरों की डीवीआर पुलिस के पास होने के कारण फुटेज की जानकारी सेवादारों के पास नहीं है। यहां पुलिस ने दूसरी डीवीआर लगाई है। पुलिस सीसीटीवी फुटेज में दिख रहे संदिग्धों से लगातार पूछताछ कर रही है।

Leave a Response