राष्ट्रीय

भारत रत्न की घोषणा पर आई लाल कृष्ण आडवाणी की पहली प्रतिक्रिया, इन दिग्गज नेताओं को किया याद

 1990 के दशक की शुरुआत में अयोध्या के राम मंदिर के लिए अपनी रथ यात्रा से पार्टी को राष्ट्रीय स्तर पर पहचान दिलाने वाले भाजपा के दिग्गज नेता लाल कृष्ण आडवाणी को भारत के सर्वोच्च नागरिक पुरस्कार, भारत रत्न से सम्मानित किया जाएगा।

भारत रत्न की घोषण पर देश के पूर्व उपप्रधानमंत्री आडवाणी ने एक बयान जारी किया है। इस पर कहा गया है कि ‘अत्यंत विनम्रता और कृतज्ञता के साथ, मैं ‘भारत रत्न’ स्वीकार करता हूं जो आज मुझे प्रदान किया गया है। यह न केवल एक व्यक्ति के रूप में मेरे लिए सम्मान की बात है, बल्कि उन आदर्शों और सिद्धांतों के लिए भी सम्मान की बात है, जिनकी मैंने अपनी पूरी क्षमता से जीवन भर सेवा की है।

दो दिग्गज नेताओं को याद करते हुए आडवाणी ने आगे कहा, ‘आज मुझे दो व्यक्ति कृतज्ञतापूर्वक याद आ रहे हैं जिनके साथ मुझे घनिष्ठता से काम करने का सम्मान मिला, पंडित दीन दयाल उपाध्याय और भारत रत्न श्री अटल बिहारी वाजपेयी।’

बेटी प्रतिभा ने जताई खुशी, पिता को खिलाई मिठाई

पिता को भारत रत्न से नवाजे जाने पर बेटी प्रतिभा प्रतिभा आडवाणी ने उनके साथ मिठाइयां बांटीं और उन्हें गले लगाया। उन्होंने इस पर खुशी जताते हुए कहा ‘मुझे और पूरे परिवार को बहुत खुशी है। निश्चित ही आज मुझे जिसकी सबसे ज्यादा याद आ रही है वो मेरी मां हैं, जिनका पापा (लालकृष्ण आडवाणी) के जीवन में बहुत बड़ा योगदान रहा है।’

जब एजेंसी ANI ने प्रतिभा से सवाल किया कि भारत रत्न से सम्मानित किए जाने की जानकारी सुनकर लाल कृष्ण आडवाणी का क्या रिएक्शन था? इस पर उन्होंने बताया ‘वह बहुत अभिभूत हैं। वह कम बोलने वाले व्यक्ति हैं। लेकिन उनकी आंखों में आंसू थे। उन्हें इस बात की खुशी और संतुष्टि है कि उन्होंने अपना पूरा जीवन देश की सेवा में समर्पित कर दिया। इसलिए, हम बहुत खुश हैं।’

आडवाणी के बेटे की भी आई प्रतिक्रिया

समाचार एजेंसी एएनआई द्वारा साझा किए गए एक वीडियो में लालकृष्ण आडवाणी के बेटे जयंत ने कहा कि ‘मैं और मेरा परिवार इससे बेहद खुश हैं। मैं अपने पिता को यह पुरस्कार प्रदान करने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को धन्यवाद देना चाहता हूं। सार्वजनिक जीवन में मेरे पिता का योगदान बहुत बड़ा रहा है और यह देखना आश्चर्यजनक है कि उनके जीवन के इस पड़ाव पर, उनके प्रयासों को इस शानदार तरीके से मान्यता दी जा रही है।’

Leave a Response