नेतागिरी

लोकसभा चुनाव से पहले बंगाल में भाजपा की बड़ी कार्रवाई, अनुपम हाजरा को राष्ट्रीय सचिव के पद से हटाया

भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने पार्टी लाइन से हटकर बयान देने के लिए पश्चिम बंगाल के बोलपुर से पूर्व सांसद अनुपम हाजरा को पार्टी के राष्ट्रीय सचिव पद से हटा दिया है। भाजपा अध्यक्ष के इस फैसले को तत्काल प्रभाव से लागू भी कर दिया गया है। जेपी नड्डा द्वारा यह फैसले ऐसे समय में लिया गया है, जब केंद्रीय गृह मंत्री और पार्टी के मुख्य रणनीतिकार अमित शाह कोलकाता के दौरे पर हैं। आपको बता दें कि हाजरा 2014 में तृणमूल कांग्रेस के टिकट पर बोलपुर से सांसद बने थे। हालांकि, वे भाजपा में शामिल हो गए थे।

वह भाजपा का अनुसूचित जाति चेहरा थे और उन्हें 2020 में यह पद दिया गया था। उन्हें 2023 में एक और कार्यकाल दिया गया था। उन्हें बिहार में पार्टी का सह-प्रभारी भी बनाया गया था। लेकिन पिछले कुछ महीनों में उनके बयानों से विवाद खड़ा हो गया था।

सितंबर में हाजरा ने यह सुझाव देकर सुर्खियां बटोरीं कि तृणमूल कांग्रेस के भ्रष्ट नेता जिन्हें सीबीआई या प्रवर्तन निदेशालय की कार्रवाई का डर है उन्हें भाजपा में शामिल होने के लिए उनसे संपर्क करना चाहिए।

हाजरा ने एक वीडियो में कहा, “आप मेरे फेसबुक पेज पर जा सकते हैं और मुझसे संपर्क कर सकते हैं। यदि आपको आगे आने और भाजपा में शामिल होने के बारे में बात करने में शर्म आती है तो आप मुझसे संपर्क कर सकते हैं और मुझे अपनी इच्छा बता सकते हैं। हम देखेंगे कि आपकी सेवाओं का उपयोग कैसे किया जा सकता है।” उनका यह वीडियो सोशल मीडिया में वायरल हो गया था।

पूर्व लोकसभा सांसद हाजरा पिछले कुछ समय से राज्य में पार्टी की कार्यप्रणाली के आलोचक रहे हैं। हाजरा को पद से हटाने को पार्टी के भीतर असंतुष्टों के लिए संगठनात्मक अनुशासन पर कायम रहने और पार्टी लाइन का पालन करने के संदेश के रूप में देखा जा रहा है।

Leave a Response