उत्तराखंड

CM योगी आदित्यनाथ के गांव पंचूर में BJP रही आगे, इतनों वोटों से कांग्रेस को पिछाड़ा

भारत निर्वाचन आयोग ने अब प्रत्याशियों को मिले बूथवार मतों का विवरण भी जारी कर दिया है। यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ के गांव पंचूर के आसपास कौन सी पार्टी आगे रही। योगी के गांव पर बीजेपी ने कितनी सीटों से कांग्रेस सहित अन्य राजनीतिक दलों के प्रत्याशियों से आगे रहे?

लोसकभा चुनाव 2024 में वोटों का क्या ट्रेड रहा? हिन्दुस्तान ने उन सभी पोलिंग बूथों की पड़ताल की, जो राजनीतिक विमर्श में शामिल मुद्दों से जुड़े हैं।  उदाहरण के लिए गैरसैंण राजधानी का मुद्दा हमेशा चर्चाओं में रहता है, तो फिर गैरसैंण के लोगों ने किस दल को समर्थन दिया?इसी तरह आपदा प्रभावित जोशीमठ में वोटिंग ट्रेंड क्या रहा या अंकिता भंडारी के गांव और आस पास के बूथ पर मतदाताओं का क्या रुझान रहा? प्रथम सीडीएस स्वर्गीय जनरल बिपिन रावत के गांव वाले बूथ के भी आंकड़े खंगाले हैं। इन आंकड़ों के विशलेषण में पंचूर, गैरसैंण और जोशीमठ में भाजपा ने बढ़त बनाई है।

योगी आदित्यनाथ के गांव में भी बीजेपी रही आगे  
पौड़ी जिले की यमकेश्वर विधानसभा में यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ का गांव पंचूर भी आता है, इस गांव का बूथ बिथ्याणी में है।  योगी के गांव ने कांग्रेस समेत अन्य राजनीति दलों के प्रत्याशियों को पिछाड़ दिया था। इस गांव में इसी तरह देश के प्रथम सीडीएस स्वर्गीय बिपिन रावत के गांव के निकट बिरमौली बूथ भी शामिल रहा हैलोकसभा चुनाव 2024 में बीजेपी ने  इन दोनों गावों में बढ़त बनाई थी। आपको बता दें कि लोकसभा चुनाव 2024 के प्रचार में यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ ने उत्तराखंड में चुनावी जनसभाओं को संबोधित किया था। उत्तरकाशी, श्रीनगर, रुड़की में चुनावी जनभाओं को संबोधित करते हुए विपक्षी कांग्रेस पर जमकर बरसे थे।

अंकिता भंडारी हत्याकांड भी विमर्श का विषय रहा
अंकिता भंडारी हत्याकांड बीते दो साल से प्रदेश के विमर्श में शामिल रहा। अंकिता का गांव श्रीकोट डोभ, पौड़ी विधानसभा में आता है, इस बूथ पर भाजपा को 164 और कांग्रेस को 209 वोट मिले। जबकि अंकिता के मुद्दे पर मुखर यूकेडी प्रत्याशी आशुतोष नेगी को यहां 30 वोट मिले, आशुतोष नेगी भी इसी गांव के रहने वाले हैं।

नजदीकी गांव बैग्वाड़ी में कांग्रेस और चंदोला राई में भाजपा को बढ़त मिली। दूसरी तरफ अंकिता की हत्या यमकेश्वर विधानसभा में गंगाभोगपुर और चीला के बीच हुई थी। यहां गंगाभोगपुर बूथ पर मतदान बहिष्कार के कारण सिर्फ दस वोट पड़े, जो भाजपा, कांग्रेस में बराबर बंट गए, जबकि चीला में भाजपा को 169 और कांग्रेस को 134 वोट मिले, इसके नजदीक कुनांऊबूथ पर कांग्रेस, भाजपा से चार मतों से आगे रही।

यूकेडी का नहीं खुला खाता
घोषित ग्रीष्मकालीन राजधानी गैरसैंण और भराड़ीसैंण के आस पास भाजपा को चुनावी बढ़त मिली। भराड़ीसैंण विधानसभा के नजदीक परवाड़ी और सारकोट बूथ हैं। सारकोट बूथ पर भाजपा को 373 और कांग्रेस को 108 वोट मिले हैं।15 लोगों ने नोटा विकल्प चुना, जबकि यूकेडी को महज 07 वोट मिले हैं। इसी तरह परवाड़ी बूथ पर भाजपा को 164 और कांग्रेस को 74 वोट मिले, जबकि यूकेडी का खाता तक नहीं खुल पाया। राइंका गैरसैंण और प्राथमिक विद्यालय गैरसैंण के बूथों पर भी भाजपा आगे रही।

जोशीमठ में भी बढ़त
जनवरी 2023 में जोशीमठ आपदा ने देश दुनिया का ध्यान खींचा था। अब मत विभाजन के आंकड़ों से स्पष्ट है कि यहां के लोगों ने भाजपा पर अधिक भरोसा जताया है। जोशीमठ नगर और आस पास कुल नौ मतदान केंद्र हैं। यहां भाजपा कन्या इंटर कॉलेज, खंड विकास अधिकारी कार्यालय, सिंघधार, प्राइमरी स्कूल, सुनील और नगर पालिका केंद्र में कांग्रेस से आगे रही, जबकि कांग्रेस रविग्राम, डिग्री कॉलेज और तहसील परिसर के केंद्र पर ही बढ़त बना सकी।

Leave a Response