देश/प्रदेश

महिला तकनीकी संस्थान में हुआ WITCON ECE 2019 का शुभारंभ

देहरादून :देहरादून के महिला तकनीकी संस्थान के तत्वावधान मे IEEE उत्तर प्रदेश अध्याय द्वारा संयुक्त रूप से अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन WITCON ECE 2019 का शुभारंभ किया गया

सम्मेलन का आरंभ मुख्य अतिथि प्रोफेसर प्रेम व्रत पूर्व निदेशक आईडी रुड़की आईआईटी दिल्ली प्रोफेसर एस एन सिंह कुलपति मदन मोहन मालवीय विश्वविद्यालय गोरखपुर प्रोफेसर एनएस चौधरी कुलपति उत्तराखंड तकनीकी विश्वविद्यालय देहरादून एवं संस्थान के निदेशक डॉ अलकनंदा अशोक प्रोफेसरअख्तर कलाम विक्टोरिया यूनिवर्सिटी ऑस्ट्रेलिया तथा विनोद कुमार शुक्ला दुबई यूएई विशिष्ट अतिथियों द्वारा दीप प्रज्वलित करके किया गया।

सम्मेलन का आरंभ करते हुए संस्थान के निदेशक डॉ अलकनंदा अशोक ने संस्थान में आयोजित द्वितीय अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन के बारे में विस्तार से बताया उन्होंने बताया कि 159 शोध पत्रों में से 50% शोध पत्र प्रस्तुत करने हेतु उच्च गुणवत्ता के पाए गए जिसका प्रस्तुतीकरण शोध छात्रों द्वारा तीन अलग-अलग सत्रों में किया जाएगा इसके अलावा छात्राओं को विशेषज्ञ से सीधे संपर्क में आकर चर्चा करने तथा ज्ञान वर्धन करने का सुनहरा अवसर प्राप्त होगा।

इसके उपरांत सभी गणमान्य विशिष्ट अतिथियों ने अपने व्याख्यान दिए जिसमें प्रोफेसर एसएन सिंह कुलपति मदन मोहन मालवीय तकनीकी विश्वविद्यालय द्वारा यह बताया गया कि सम्मेलन के माध्यम से शोधार्थी अपने शोध को अन्य के साथ साझा करते हैं।

जिससे शोध की गुणवत्ता में सुधार होता है इसके उपरांत उत्तराखंड तकनीकी विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर एनएस चौधरी द्वारा व्याख्यान दिया गया जिसके अंतर्गत उन्होंने तकनीकी विकास के सबके लिए सभी को साथ आगे आना चाहिए तथा उन्होंने जय विज्ञान के नारे को विस्तृत रूप से शोधार्थियों को समझाया।

इसके उपरांत इस अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन के मुख्य अतिथि प्रोफेसर प्रेम रत वारा अपने विचार प्रस्तुत किए गए जिसमें उन्होंने तकनीकी शिक्षा के तकनीक में हो रहे बदलावों के बारे में बताया उन्होंने कहा कि सकारात्मक तकनीक का विकास होना चाहिए ना की नकारात्मक तकनीक का क्योंकि आज का समाज तकनीक पर आधारित होता जा रहा है मानव समाज वास्तविक विज्ञान से दूर होकर पूर्णत तकनीकों के सहारे होता जा रहा है जिससे समाज के बौद्धिक विकास पर प्रतिकूल असर पड़ता है।

इस अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन में देश-विदेश के कई जाने-माने शिक्षाविद् व विशेषक अपना प्रस्तुतीकरण दे रहे हैं तथा शोध पत्रों को तीन अलग-अलग सत्रों में प्रस्तुतीकरण शोधार्थी द्वारा शुरू हो गया है।

उद्घाटन समारोह के उपरांत मुख्य व्याख्यान कर्ता जिसमें प्रोफेसर अख्तर कलाम जो मेलबर्न ऑस्ट्रेलिया से प्रतिभाग करने इस अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन में आए हुए हैं द्वारा विचार प्रस्तुत किए गए जिसमें विद्युत संचार व वितरण के विभिन्न पहलुओं को विस्तार से समझाया गया उसके उपरांत प्रोफेसर विनोद कुमार शुक्ला सह प्राध्यापक दुबई यूएई से आए विशेषज्ञ द्वारा 4.0 तकनीक पर विस्तार से अपने विचार प्रस्तुत किए इसके पश्चात प्रोफेसर जी राम कुमार द्वारा पेटेंट कॉपीराइट ट्रेडमार्क पर विस्तृत व्याख्यान दिया गया  सोनिया गर्ग द्वारा उद्योगों में महिलाओं की भूमिका व रसायन उद्योग के बारे में विस्तार से व्याख्यान प्रस्तुत किया गया।

सोनाली जो अभियंत्रिकी के प्रख्यात शोधपत्र का टेलर एंड फ्रांसिस में संयोजक हैं के द्वारा शोध पत्र लिखने की तकनीक के बारे में व्याख्यान दिया गया इसको सुनने के लिए विभिन्न संस्थानों से लगभग 300 से अधिक छात्र-छात्राएं तथा कई देशों जैसे ऑस्ट्रेलिया यूही बांग्लादेश आदि देशों के शोधार्थी बढ़ चढ़कर हिस्सा ले रहे हैं। इसके साथ साथ विशिष्ट अतिथि और शिक्षाविद व निदेशक द्वारा सम्मेलन पुस्तिका का विमोचन भी किया गया ।

विशेष