Latest Newsराष्ट्रीय

Paytm को आखिर शक की निगाहों से क्यों देख रहा है रिजर्व बैंक !

देश का सबसे बड़ा आईपीओ (IPO), सबसे तेज ग्रो हो रही फिनटेक कंपनी, भारत के सफलतम स्टार्टअप का चेहरा, डिजिटल पेमेंट कंपनी पेटीएम (Paytm) का IPO जब लॉन्च हुआ तो कुछ इसी तरह की कीर्तिगाथाएं सुनाकर. निवेशकों का उत्साह बढ़ाया गया और उन्हें IPO में पैसा लगाने के लिए प्रोत्साहित किया गया, लेकिन IPO में पैसा लगाने वाले निवेशक अब ठगे हुए लग रहे हैं. 2150 रुपए के इश्यु प्राइस वाला IPO 72 फीसद तक लुढ़क चुका है. यानि निवेशकों के लगाए हर 100 रुपए अब सिर्फ 28 ही बचे हैं. IPO लॉन्च होने के समय भी निवेशकों (Investors) का ठंडा रिस्पॉन्स था.

पहले ही दिन निवेशकों को हुआ 26 फीसदी का घाटा

उस समय आने वाले अधिकतकर IPO को निवेशकों ने हाथोंहाथ उठाया था, लेकिन Paytm का IPO 2 गुना भी सब्सक्राइब नहीं हो सका था. ज्यादातर संस्तागत निवेशकों ने इससे दूरी बनाई हुई थी, लेकिन रिटेल निवेशकों में खरीदारी का जोरदार उत्साह था और उसी उत्साह ने उन्हें घाटे में चल रही कंपनी में पैसा लगाने के लिए मजबूर कर दिया.

जो पहले निकल आए, वो तो बच गए

पहले ही दिन Paytm के शेयर में आई गिरावट से जो IPO निवेशक संभलकर बाहर निकल गए. उनको उतना नुकसान नहीं हुआ. जितना नुकसान उन निवेशकों को हो रहा है जो अभी भी निवेश बनाए हुए हैं. मंगलवार को शेयर ने 584 रुपए का निचला स्तर छुआ है. सोशल मीडिया पर अब Paytm के शेयर का मजाक तक उड़ रहा है. Paytm की पेरेंट कंपनी का नाम One97 Communication है. मजाक में लोग बोल रहे हैं कि Paytm का जायज भाव तो 197 रुपए ही है.

ब्रोकरेज कंपनी मैक्वायरी ने इस साल जनवरी में Paytm के भाव के लक्ष्य को घटाकर 900 रुपए और करीब एक महीना पहले घटाकर 700 रुपए कर दिया था. फरवरी में ही कंपनी के तिमाही नतीजे भी घोषित हुए थे और 780 करोड़ रुपए का घाटा दिखाया गया था.

पेटीएम पर मनी लॉन्ड्रिंग और KYC नियमों की अनदेखी का आरोप

लेकिन Paytm के लिए और खराब दौर आना अभी बाकी था और उस दौर की शुरुआत शुक्रवार रात को हुई. रिजर्व बैंक ने Paytm Bank पर नए ग्राहक जोड़ने से रोक लगा दी. साथ में ऑडिट कराने का भी निर्देश दिया. Paytm पर मनी लॉन्ड्रिंग और KYC नियमों की अनदेखी का भी आरोप लगा. मामला अभी शांत भी नहीं हुआ था. कि कंपनी के बड़े निवेशक Soft Bank के प्रतिनिधि मनीष वर्मा ने कंपनी छोड़ दी. बस फिर क्या था. शेयर की और पिटाई शुरू हुई और मंगलवार को भाव घटकर 584 रुपए तक आ गया.

अब बड़ा सवाल. क्या शेयर और टूटेगा. ब्रोकिंग कंपनी मैक्वायरी का मानना है कि RBI के कदमों का Paytm के कारोबार पर ज्यादा असर नहीं पड़ेगा. मैक्यवायरी ने Paytm के लिए जो 700 रुपए का लक्ष्य दिया हुआ था. उसे फिलहाल बरकरार रखा है.

मॉर्गन स्टैनली ने घटाई पेटीएम की रेटिंग

मॉर्गन स्टैनली का भी मानना है, निकट भविष्य में अस्थिरता का माहौल मैनेज हो जाएगा. लेकिन शेयर के भाव पर रेग्युलेटरी अनिश्चितता हावी रहेगी. मॉर्गन स्टैनली ने Paytm के शेयर का लक्ष्य घटाकर 935 रुपए कर दिया है और साथ में रेटिंग भी कम की है.

आगे भाव कहीं भी जाए. लेकिन Paytm के निवेशकों को हुए घाटे से IPO के समय तय हुए इश्यु प्राइस को लेकर सेबी की भूमिका को लेकर कई सवाल उठे हैं. शायद यही वजह है कि तमाम आलोचनाओं के बाद अब सेबी ने IPO वैल्युएशन को लेकर नियम सख्त करना शुरू किए हैं. यानि Paytm के IPO को लेकर अच्छी बात यही है कि रेग्युलेटर की नींद खुली है. जो शायद भविष्य में IPO निवेशकों को सुरक्षित कर सके.

Leave a Response