राष्ट्रीय

किसकी ‘शिवसेना’ ? EC की कार्यवाही को ठाकरे ने सुप्रीम कोर्ट में दी चुनौती

किसकी ‘शिवसेना’ इस पर पूर्व सीएम ठाकरे और वर्तमान सीएम शिंदे के बीच जंग जारी है. इस बीच  EC की कार्यवाही को ठाकरे ने सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी है. कोर्ट इस पर  1 अगस्त को सुनवाई करेगा.

उद्धव ठाकरे की तरफ से सुप्रीम कोर्ट में दायर याचिका में कहा गया है कि एकनाथ शिंदे के नेतृत्व वाले गुट की ओर से चुनाव आयोग के समक्ष वास्तविक शिवसेना होने के दावे को लेकर की जा रही सुनवाई पर रोक लगाई जाए. चुनाव आयोग ने दोनों ही गुटों को नोटिस भेजा है. 8 अगस्त को मामले की सुनवाई होगी और चुनाव आयोग बताएगा कि असली शिवसेना किसकी है. आपको बता दें कि बगावत करके एकनाथ शिंदे (Eknath Shinde) फिलहाल महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री बन चुके हैं और खुद के गुट को असली शिवसेना बता रहे हैं जबकि उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) ने इस दावे को चुनौती दी है.

एकनाथ शिंदे गुट ने चुनाव आयोग को पत्र लिखकर शिवसेना का चुनाव चिन्ह ‘धनुष-बाण’ उन्हें आवंटित करने की मांग की थी. इस पत्र में शिंदे गुट ने 55 में से 40 विधायकों और 19 लोकसभा सांसदों में से 12 के समर्थन का दावा किया था. साथ ही लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला और महाराष्ट्र विधानसभा अध्यक्ष राहुल नार्वेकर द्वारा दी गई मान्यता का हवाला दिया था. दूसरी तरफ शिवसेना के संस्थापक स्वर्गीय बाला साहब ठाकरे के बेटे और उद्धव ठाकरे के गुट ने भी आयोग को पत्र लिखा. इसमें सूबे के पूर्व मुख्यमंत्री के खेमे ने अनुरोध किया था कि पार्टी के नाम और उसके चुनाव चिह्न पर दावों के लिए कोई भी फैसला लेने से पहले उसके विचार को सुना जाए. महाराष्ट्र में शिवसेना के 55 में से कम से कम 40 विधायकों ने बागी नेता एकनाथ शिंदे को समर्थन देने की घोषणा की थी, जिसके बाद शिवसेना-कांग्रेस औऱ राष्ट्रवादी कांग्रेस की महाअघाड़ी सरकार गिर गई थी.

Leave a Response