देश/प्रदेश

पेयजल योजनाओं की पंपिंग घटने से कई गांवों पानी का संकट

अल्मोड़ा: लगातार हो रही बारिश और ओलावृष्टि से फसलों को नुकसान पहुंचने के साथ तमाम दुश्वारियां भी बढ़ गई हैं। गाद आने से पेयजल पंपिंग योजनाओं में पर्याप्त पंपिंग नहीं हो पा रही है। चिलियानौला ग्राम समूह पेयजल पंपिंग योजना से जुड़े एक दर्जन से अधिक गावों में पिछले कुछ दिनों से पेयजल का संकट बना हुआ है। लोग बारिश के मौसम में दूर-दराज के प्राकृतिक जल स्रोतों से पानी की व्यवस्था कर रहे हैं। गगास-रानीखेत-ताड़ीखेत पेयजल योजना की पंपिंग भी घट गई है। क्षेत्र में लगातार हो रही बारिश से नदियों में काफी मात्रा में गाद आ रही है। गगास नदी में गाद आने से चिलियानौला ग्राम समूह पेयजल योजना की नियमित पंपिंग नहीं हो रही है।

पंपिंग घटने से योजना से जुड़े चिलियानौला, ताड़ीखेत, सिमोली, पथुली, गैरड़, तौड़ा, सौखला, पिलखोली, जैनोली, चमोली, खग्यार, तस्वाड़ सहित एक दर्जन से अधिक गांवों में होली के बाद से पेयजल का संकट बना हुआ है। गगास नदी से ही बनी गगास-रानीखेत-ताड़ीखेत पेयजल पंपिंग योजना भी नदी में गंदा पानी आने के कारण प्रभावित हुई है। पंपिंग का समय घटने से योजना से जुड़े गनियाद्योली क्षेत्र के गांवों में पानी की आपूर्ति प्रभावित होने से पेयजल की किल्लत बनी है। जल संस्थान के अधिशासी अभियंता सुरेश ठाकुर ने बताया कि नदी में काफी मात्रा में गाद के कारण पेयजल योजनाओं की पंपिंग घटानी पड़ी है। जिससे उक्त पेयजल योजनाओं से जुड़े कुछ गांवों में पानी की आपूर्ति प्रभावित हुई है। हालांकि तमाम जगह एक दिन छोड़कर पानी की सप्लाई की जा रही है। उन्होंने कहा कि बारिश रुकते ही समस्या दूर हो जाएगी।

विशेष