Latest Newsसुनो सरकार

कल्जीखाल के टंगरोली गांव के ग्रामीणों को है पेयजल से पानी की आपूर्ति का इंतज़ार

पौड़ी: विकासखंड कल्जीखाल के टंगरोली गांव के ग्रामीणों ने हर बार के चुनाव में सहभागिता निभाई और लोकतंत्र के महापर्व में बढ़-चढ़ कर शामिल हुए। लेकिन, ग्रामीणों की पेयजल समस्या का आज तक समाधान नहीं हुआ है। ग्रामीणों के मुताबिक जिस योजना से गांव में पानी की आपूर्ति होती है, उससे भी सप्ताह में कभी-कभार ही पेयजल आपूर्ति हो पाती है। ऐसे में परेशान ग्रामीणों को गांव के प्राकृतिक स्त्रोत से ही प्यास बुझानी पड़ती है। इसमें भी गर्मियों के मौसम में पानी की धार कुम्लाने लग जाती है।

जिला मुख्यालय पौड़ी से करीब 30 किमी की दूरी पर स्थित है विकासखंड कल्जीखाल का टंगरोली गांव। मौजूदा समय में यहां 50 से अधिक परिवार रहते हैं। लेकिन, गांव में सबसे बड़ी समस्या पानी की है। गांव में जो प्राकृतिक पेयजल स्त्रोत हैं, उसकी धार वैसे ही कम है। गर्मियों में वह धार और भी कम हो जाती है। इसके अलावा जिस मुडेश्वर पंपिग योजना से गांव को पानी की आपूर्ति होती है। स्थानीय निवासियों के मुताबिक उस योजना से गांव को ठीक से पानी की आपूर्ति नहीं हो पाती है। सामाजिक कार्यकत्र्ता जगमोहन डांगी बताते हैं कि कई बार ग्रामीणों को करीब दो किमी दूर गदेरे से भी पानी ढोना पड़ता है।

ग्रामीणों का कहना है कि हर बार चुनाव आते ही ग्रामीण लोकतंत्र के महापर्व में बढ़-चढ़कर शामिल होते हैं ताकि उनकी पानी की समस्या दूर हो सके। कहा कि गांव के लिए नई पेयजल योजना बने केवल उनकी यही मांग है, लेकिन उनकी हसरतें आज भी अधूरी हैं। क्षेत्र के गडकोट वार्ड के जिला पंचायत सदस्य संजय डबराल बताते हैं, टंगरोली गांव में पेयजल समस्या को दूर करने के लिए पूर्व में डांडा नागराजा पंपिग पेयजल योजना से जोड़ने की मांग की गई। विभागीय अधिकारियों से भी गुहार लगाई गई। इस पर निरीक्षण तो हुआ, लेकिन यहां से आगे बात नहीं बन पाई। अब फिर से विधानसभा चुनाव हैं तो ग्रामीण भी जिस किसी की सरकार बने अपने गांव में पानी की समस्या दूर किए जाने की आस लगाए बैठे हैं।

Leave a Response