उत्तराखंड

सपा नेता के बिल्डिंग पर चला बुलडोजर, कार्यवाही के दौरान जमकर हुआ हंगामा

उत्तराखंड अधीनस्थ सेवा चयन आयोग (UKSSSC) पेपर लीक मामले में अब आयोग के अधिकारी भी जांच के घेरे में आ गए हैं. शासन ने आयोग के पूर्व सचिव संतोष बडोनी, पूर्व परीक्षा नियंत्रक नारायण सिंह डांगी और तीन अनुभाग अफसरों के खिलाफ विजिलेंस जांच के आदेश दिए हैं. वहीं मामले में ईडी भी सक्रिय हो गई है. ईडी ने तीन मास्टरमाइंड हाकम सिंह, चंदन मनराल और राजेश चौहान की संपत्ति के बारे में जानकारी जुटाई है.

किस मास्टरमाइंड के पास कितनी है संपत्ति?

मामले में आरोपी हाकम सिंह रावत से पूछताछ के बाद पता चला कि वह 4 दिसंबर 2021 को कुछ छात्रों को दो वाहनों में लेकर धामपुर गया था जिसमें पहले गिरफ्तार अभियुक्त तनुज शर्मा भी था. हाकम सिंह की अर्जित संपत्ति की बात करें तो सांकरी में अलीशान रिजॉर्ट, 12 बीघा का सेब का बगीचा, 20 बीघा सेब का बगीचा लीज पर, देहरादून में पत्नी के नाम पर मकान है. वहीं चंदन मनराल के पास भी करोड़ों की संपत्ति है. वहीं राजेश चौहान की संपत्ति में दो कंपनियां (टर्नओवर 111 करोड़), पत्नी के नाम पर नोएडा में फ्लैट, सीतापुर में तमाम संपत्तियां, लखनऊ में आलीशान मकान शामिल है.

स्टोन क्रेशर, ट्रैवल्स एजेंसी, बसें- मनराल के पास अथाह संपत्ति

STF द्वारा पहले दी गई जानकारी के मुताबिक आरोपी मनराल के पास 1 करीब 15 एकड़ जमीन पीरुमदार में, 2 करीब 10 बीघा खेती की भूमि रामनगर मैं, 3 मनराल स्टोन क्रेशर के नाम से एक स्टोन क्रेशर पीरुमदार में जिसमें करीब सात बड़े ट्रक एवं तीन पोकलैंड, 4 मनराल ट्रैवल्स एजेंसी जिसमें करीब 13 बस जिनमें से 10 बस स्कूलों में एवं तीन बस पहाड़ में चलती है, 5 बाल महिला कल्याण समिति नाम से एनजीओ, 6 रामनगर नैनीताल में 3 मंजिला मकान व ऑफिस एवं आधा बीघा मुख्य सड़क पर कमर्शियल प्लाट और 7 आधा दर्जन से अधिक बैंक खाते शामिल हैं.

Leave a Response