उत्तराखंड

पूर्व IAS राम बिलास यादव के ठिकानों पर विजिलेंस ने दोबारा मारे छापे

देहरादून: आय से अधिक संपत्ति के मामले में जेल में बंद सेवानिवृत्त आइएएस राम बिलास यादव के ठिकानों पर विजिलेंस ने दोबारा छापेमारी की है। दो टीमें उनके उत्तर प्रदेश स्थित गाजियाबाद व लखनऊ के ठिकानों पर छापेमारी कर रही है।

सूत्रों की मानें तो राम बिलास यादव के ठिकानों से करोड़ों रुपये के संपत्ति की जानकारी मिली है। छापेमारी संबंधी जानकारी विजिलेंस की ओर से यादव की बेटी को दी गई थी, लेकिन वह उपस्थित नहीं रही।

ऐसे में केयर टेकर की देखरेख में विजिलेंस जांच कर रही है। बताया जा रहा है कि विजिलेंस की टीम लखनऊ स्थित गाजीपुर में भी जांच कर रही है। दूसरी ओर, राम बिलास यादव की पत्नी अब तक विजिलेंस के समक्ष पेश नहीं हुई। कोर्ट के आदेश पर विजिलेंस की टीम उनके यादव के ठिकानों की जांच कर रही है।

23 जून को किया गया था गिरफ्तार

उत्तराखंड शासन में अपर सचिव रहे राम बिलास यादव गत 30 जून को सेवानिवृत्त हुए थे, इससे पहले उनको निलंबित कर दिया गया था। उनके विरुद्ध आय से 522 प्रतिशत अधिक संपत्ति अर्जित करने को लेकर विजिलेंस जांच कर रही है।

इसी 11 जून को विजिलेंस ने उत्तराखंड के साथ ही उत्तर प्रदेश में कई जगह छापेमारी कर राम बिलास की कई संपत्तियों से पर्दा उठाया था। इस मामले में राम बिलास जांच में सहयोग नहीं कर रहे थे। ऐ

से में हाई कोर्ट ने यादव को बयान दर्ज कराने के लिए विजिलेंस के समक्ष पेश होने का आदेश दिया। 23 जून 2022 को यादव विजिलेंस मुख्यालय पहुंचे, जहां कई घंटे की पूछताछ के बाद विजिलेंस ने देर रात उन्हें गिरफ्तार कर लिया। अगले दिन विजिलेंस ने यादव को कोर्ट में पेश किया, जहां से उन्हें 14 दिन की न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया गया।

Leave a Response