देश/प्रदेश

उत्तरकाशी लॉक डाउन के बीच अबोध बच्ची के लिए देवदूत बनी उत्तरकाशी पुलिस

उत्तरकाशी : लॉक डाउन के बीच पुलिस भले ही बेवजह सड़कों पर घूमने वालों पर सख्ती दिखा रही हो। लेकिन, जो जरूरतमंद और परेशान हैं, उनके लिए पुलिस देवदूत बन रही है। उत्तरकाशी पुलिस ने गुरुवार को ढाई वर्ष की अबोध बच्ची को उसकी मां को मिलाया। पुलिस के इस कार्य के लिए बच्ची के स्वजनों के साथ ही ग्रामीणों ने भी आभार व्यक्त किया।

भटवाड़ी ब्लॉक के मल्ला गांव की मंजू की दो बेटियां है। एक बेटी ढाई वर्ष की और एक बेटी चार माह की है। जनता क‌र्फ्यू से पहले मंजू अपनी चार माह की बेटी के साथ अपने मायके बुढ़ाकेदार रक्षिया में पूजा में शामिल होने गई थी। लेकिन, जब मंजू को वापस लौटना था तो तब तक लॉक डाउन की घोषणा हो गई। मंजू की ढाई वर्ष की बेटी जो मल्ला में थी वह अपनी मां के बिना रोए जा रही थी। मंजू को भी बुढ़ाकेदार के स्थानीय प्रशासन से सहयोग नहीं मिला। मल्ला में ढाई वर्ष की बेटी के परेशान होने की खबर पुलिस अधीक्षक पंकज भट्ट को मिली। एसपी पंकज भट्ट ने पुलिस उपाधीक्षक कमल सिंह पंवार को निर्देश दिए कि पुलिस अपनी गाड़ी लेकर बुढ़ाकेदार रक्षिया जाकर मंजू को मल्ला छोड़ आए। गुरुवार की सुबह पुलिस टीम बुढ़ाकेदार पहुंची, जहां मंजू को मल्ला उसके गांव में उसकी ढाई वर्ष की अबोध बेटी के पास पहुंचाया।

विशेष