नेतागिरी

गुरुड़ाबांज में मुंशी हरि प्रसाद टम्टा पारंपरिक शिल्प उन्नयन संस्थान का अधूरा भवन

अल्मोड़ा। भाजपा सरकार पर गुरुड़ाबांज में मुंशी हरि प्रसाद टम्टा पारंपरिक शिल्प उन्नयन संस्थान का निर्माण कार्य रोकने का आरोप लगाते हुए कांग्रेसियों ने बुधवार को गुरुड़ाबांज में धरना दिया। पूर्व सीएम हरीश रावत, पूर्व स्पीकर गोविंद सिंह कुंजवाल, अल्मोड़ा के विधायक मनोज तिवारी, पूर्व सांसद प्रदीप टम्टा के नेतृत्व में कांग्रेसी गुरुड़ाबांज में अधूरे पड़े भवन में उपवास पर बैठे। कार्यकर्ताओं ने डबल इंजन की सरकार के खिलाफ नारेबाजी भी की।

सभा को संबोधित करते हुए पूर्व सीएम रावत ने भाजपा सरकार पर कांग्रेस शासनकाल में शुुरू किए गए और स्वीकृत विकास कार्यों को दुर्भावनावश रोकने का आरोप लगाया। उन्होंने सरकार को संस्थान निर्माण के लिए एक साल का समय देते हुए कहा कि अन्यथा मुंशी टम्टा की जयंती से अनशन शुरू कर दिया जाएगा।

उन्होंने कहा कि पूर्ववर्ती कांग्रेस सरकार में गुरुड़ाबांज में यह पारंपरिक शिल्प उन्नयन संस्थान का निर्माण शुरू किया और बजट भी आवंटित किया लेकिन भाजपा सरकार ने सत्ता में आने के बाद इसके लिए बजट अवमुक्त नहीं किया। छह साल से इस संस्थान का निर्माण कार्य ठप पड़ा है। वहीं, कुंजवाल ने कहा कि 100 करोड़ की लागत के इस संस्थान के लिए तत्कालीन कांग्रेस सरकार ने 5.60 करोड़ अवमुक्त कर जमीन, पानी, चहारदीवारी निर्माण कर कार्य शुरू करवा दिया था। इससे 10 हजार लोगों को प्रत्यक्ष रोजगार मिलता।

अल्मोड़ा के विधायक मनोज तिवारी ने कहा कि इस मुद्दे को वह विधानसभा में उठाएंगे। पूर्व सांसद प्रदीप टम्टा ने कहा कि सरकार जल्द से जल्द इस संस्थान का निर्माण शुरू करवाए। वहां पर जिलाध्यक्ष पीतांबर पांडे, पूर्व विधायक ललित फर्स्वाण, डीसीबी के पूर्व अध्यक्ष दीवान भैसोड़ा, प्रशांत भैसोड़ा, ब्लॉक अध्यक्ष विशन सिंह, युकां जिलाध्यक्ष निर्मल रावत आदि थे।

बागेश्वर के पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष हरीश ऐठानी, मनोज वर्मा, राजेंद्र टंगड़िया, दिनेश जोशी, राजेंद्र बिष्ट, हरीश जोशी, संतोष आर्या, हरीश गैलाकोटी, धन सिंह, रमेश बिष्ट, पूरन पांडे, चंदन बोरा, विनीत बोरा, ललित सतवाल, कुंदन रौतेला, हरिमोहन भट्ट, नारद भट्ट, कुंदन कुंजवाल, मदन कुंजवाल, गिरधर रौतेला, देवेंद्र बिष्ट, दिनेश रावत आदि।

Leave a Response