उम्मीदें

ऊधमसिंहनगर खेल प्रतिभाओं को तराशने में लगी है ये ‘खिलाड़ियों की नर्सरी

 रुद्रपुर। उत्तराखंड में विषम भौगोलिक परिस्थितियां व पहाड़ी जिलों में खेल के संसाधन कम होने के कारण अन्य राज्यों की अपेक्षा युवाओं को अवसर नहीं मिल पाते हैं। इसके लिए मैदानी जिले में सरकार ने प्रदेशभर की युवाओं को प्लेटफार्म मुहैया कराकर उन्हें खेल की दुनिया में हुनर दिखाने का अवसर दे रहा है। या यूं कहें कि ये जिले खेल पौध की नर्सरी हैं।

ऊधमसिंहनगर खेल प्रतिभाओं को तराशने में अग्रणी है। यह साबित भी हुआ है। अभी बीते वर्ष टोक्यो पैरालंपिक में जिले के मनोज सरकार ने कांस्य पदक जीतकर उत्तराखंड ही नहीं देश का नाम खेल की दुनिया में रोशन किया। सम्मान में उनके नाम पर ही स्टेडियम का नाम रखा गया है। इसी तरह से कई खिलाड़ियों ने राष्ट्रीय स्तर पर अपनी प्रतिभा का लोहा मनवा चुके हैं।

साथ ही पिछले तीन वर्षों में 9 से अधिक राष्ट्रीय प्रतियोगिताएं आयोजित हो चुकी हैं। उत्तराखंड ओलंपिक एसोसिएशन की तरफ से खिलाड़ियों को निखारकर आगे लाने की कसरत जारी है। कोरोना का प्रकोप कम होते ही आगामी 11 अप्रैल से 23वीं राष्ट्रीय वालीबाल चैंपियनशिप की मेजबानी भी रुद्रपुर करने जा रहा है।

वालीबाल का ट्रायल 

दो दिनों से रुद्रपुर स्पोर्टस स्टेडियम में खिलाड़ियों के चयन को लेकर ट्रायल चल रहा है। राष्ट्रीय प्रतियोगिता का आयोजन होने से राज्य के खिलाड़ियों को होम ग्राउंड के साथ ही आत्मविश्वास के साथ खुद को निखारने का मौका मिलता है।

बढ़ा है आत्मविश्वास

अभ्यास में जुटे खिलाड़ियों ने बातचीत में बताया कि जिन खेलों को हम सिर्फ टेलीविजन में देखते व सुनते आए हैं उनका आयोजन और बड़े खिलाड़ियों से रूबरू होने का मौका मिलता है। इससे हमारी खेल की स्किल निखरती है।

इन खेलों का हो चुका आयोजन

ओलंपिक एसाेसिएशन के महासचिव डीके सिंह ने बताया कि बीते तीन वर्षों में ही नौ से अधिक राष्ट्रीय प्रतियोगिताएं विभिन्न खेलों में आयोजित की जा चुकी हैं। साथ ही एक बार स्टेट ओलंपिक का भी आयोजन किया जा चुका है। इन प्रतियोगिताओं में खिलाड़ियों ने जिलास्तर पर, प्रदेश स्तर व राष्ट्रीय स्तर पर कई मेडल जीते हैं।

ऊधम सिंह नगर में राष्ट्रीय आयोजन 

– खो खो – 2019

– पैरालंपिक – 2019

– बॉक्सिंग – 2019

– फेसिंग – 2020-21

– हैंडबॉल – 2019

– वालीबाॅल – 2022

– तीन बार वाटर स्पोर्ट्स में नेशनल चैंपियनशिप

 

Leave a Response