उत्तराखंड

उत्तराखंड में दस लाख पहुंची तिरंगे की डिमांड, कपड़े की कमी से शार्टेज

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के हर घर तिरंगा महोत्सव को लेकर रेडीमेड झंडों की डिमांड हजारों से 10 लाख तक पहुंच चुकी है। होल सेलर तिरंगे झंडे को लेकर कपड़ों की कमी की मार झेलने को परेशान है।

सूरत में हो गई कपड़े की शार्टेज

पिछली बार प्रदेश में जहां झंडो की बिक्री हजारों तक सीमित रह गई थी। वहीं इस बार आजादी के अमृत महोत्सव के तहत डिमांड दस लाख तक पहुंचती दिख रही है। सूरत में तिरंगे में उपयोग किए जाने वाले कपड़े की अभी से शार्टज हो गई है।

कैबिनेट आयोजन सफल बनाने में जुटा

आजादी के अमृत महोत्सव के तहत प्रधानमंत्री ने हर घर तिरंगा का पैगाम दिया है। कार्यक्रम को सफल बनाने के लिए प्रदेश के मुख्यमंत्री, कैबिनेट मंत्री, विधायक और प्रदेशवासियों में उत्साह का माहौल है। आजादी के जश्न में सम्मिलित होने के लिए सभी वर्गों के लोग हर घर तिरंगा कार्यक्रम को लेकर आतुर हैं।

ढाई लाख रेडीमेड तिरंगे की मांग

इस वजह से अभी से प्रदेश में रेडीमेड तिरंगे झंडों की डिमांड हजारों से लाखों में पहुंच चुकी हैं। उत्तराखंड में रेडीमेड तिरंगा झंडे के होलसेलर रुद्रपुर निवासी तनेजा टेक्सटाइल्स के स्वामी मोहित तनेजा ने बताया कि अभी तक उनके पास ढाई लाख रेडीमेड तिरंगे झंडे की डिमांड है।

अभियान को लेकर लोगों में उत्साह

मोहित तनेजा ने कहा कि इस बार लोगों के बीच हर घर तिरंगा अभियान को लेकर उत्साह है। 15 अगस्त से पहले तक डिमांड 10 लाख के करीब पहुंच जाएगी। पूरे उत्तराखंड में वह रेडीमेड झंडों के होलसेलर हैं। पिछले साल उन्होंने बहुत मुश्किल से एक हजार से अधिक तिरंगे झंडे बेचे गए थे। इस बार हर घर तिरंगा कार्यक्रम के कारण डिमांड बढ़ी है।

पहले का ही आर्डर पूरा करने में मशक्कत

मोहित तनेजा ने बताया कि गुजरात के सूरत में भी तिरंगे झंडे में इस्तेमाल होने वाला शार्टन कपड़े की शार्टेज बढ़ गई है। जिसकी वजह से उन्हें पहले से लिया गया आर्डर को ही पूरा करने में काफी मशक्कत करनी पड़ रही है। जिसे देखते हुए वह भी अब आगे आर्डर लेने से कतरा रहे हैं।

Leave a Response