देश/प्रदेश

परमार्थ निकेतन में तीन दिवसीय वैश्विक शिखर सम्मेल का शुभारंभ

ऋषिकेश: परमार्थ निकेतन में तीन दिवसीय ‘नो वन बिहाइंड’ वैश्विक शिखर सम्मेलन’ का आयोजन किया जा रहा है. इस शिखर सम्मेलन में अनेक धर्मों के धर्मगुरू, भारत में संयुक्त राष्ट्र की टीम के सदस्य, राज्य सरकार से मंत्रीगण व अधिकारीगण, नागरिक समाज, निजी क्षेत्रों, मीडिया, खेल जगत, फिल्मी हस्ती और अन्य गणमान्य अतिथि शिरकत कर रहे हैं.

इस शिखर सम्मेलन का मुख्य उद्देश्य विशेष रूप से महिलाओं, युवाओं और विभिन्न क्षेत्रों के लोगों के सामाजिक जुड़ावों को बढ़ावा देने के लिए जागरुक करना है

साथ ही भारत सरकार के ओडीएफ प्लस के मौजूदा लांच को भी सहयोग प्रदान करना है. वहीं, साल 2020 में संयुक्त राष्ट्र संघ और एचआरसी द्वारा जल और स्वच्छता के मानवाधिकारों की मान्यता की 10 वीं वर्षगांठ और एजेंडा 2030 की 5 वीं वर्षगांठ भी मनायी जायेगी.

‘नो वन बिहाइंड’ शिखर सम्मेलन में युवा, महिलायें, बच्चे, दलित, आदिवासी, ट्रांसजेंडर, लेस्बियन, किसान और HIV से पीड़ित लोगों को भी आंमत्रित किया गया है.

तीन दिनों तक उन्हें वाॅटर, सेनिटेशन एवं हाइजीन, मासिक धर्म स्वच्छता और ठोस एवं तरल अपशिष्ट प्रबंधन के लिए प्रशिक्षित किया जाएगा. वक्ताओं का कहना है कि ये शिखर सम्मेलन स्वच्छ भारत मिशन को और आगे ले जाने में सहायक सिद्ध होगा.

वहीं, स्वामी चिदानन्द सरस्वती ने बताया कि इस शिखर सम्मेलन का आयोजन संयुक्त रूप से किया गया है. संभव है कि ये सम्मेलन मानव और प्रकृति के कल्याण के नए मार्ग खोलेगा और पर्यावरण को समावेशी और सतत बनाने में मदद करेगा.

उन्होंने कहा कि भारत की जनता ने अनेक अवसरों पर एकजुटता का परिचय दिया है. अब हम सभी को पर्यावरण एवं जल संरक्षण के लिये भी एकजुट होना होगा.

विशेष