देश/प्रदेश

इस बार मोबाइल एप से होगी भारत की जनगणना

नैनीताल: 2021 में होने वाली देश की जनगणना को लेकर सरकार ने अभी से अपनी तैयारी शुरू कर दी है. सोमवार को प्रदेशभर के अधिकारियों को प्रशासनिक अकादमी भवन में ट्रेनिंग दी गई. ये ट्रेनिंग जनगणना निदेशक विमी सचदेवा के नेतृत्व में हुई.

बता दें कि नैनीताल में शुरू हुआ जनगणना ट्रेनिंग का कार्यक्रम 25 से 30 नवंबर तक चलेगा. जिसकी शुरुआत सोमवार को नैनीताल में जनगणना निदेशक विम्मी सचदेवा द्वारा दीप प्रज्वलन कर किया गया.

इस दौरान विमि सचदेवा ने कहा कि भारतीय जनगणना प्रक्रिया विश्व की उत्कृष्ट जनगणना प्रक्रियाओं में गिनी जाती है, जो संपूर्ण भारत के जनपद, तहसील, विकासखंड, ग्राम पंचायत एवं ग्राम स्तर के विश्वसनीय डाटा प्राप्त करने का एकमात्र क्षेत्र है.

इस दौरान विवि सचदेवा द्वारा बताया गया कि 2021 में देश में होने वाली जनगणना को दो चरणों में किया जाएगा. जिसमें प्रथम चरण में 15 अप्रैल से 20 मई तक आवासों के सूचीकरण का कार्य किया जाएगा.

जिसके बाद दूसरे चरण में 9 से 26 फरवरी 2021 के मध्य जनगणना का कार्य किया जाएगा. उन्होंने बताया कि जनगणना के बाद 1 मार्च से 5 मार्च 2021 के मध्य पुनरीक्षण का काम किया जाएगा.

वहीं, विमी सचदेवा ने बताया कि जनगणना के माध्यम से आवासीय स्थिति, जन सुविधाएं, संपत्तियां, अनुसूचित जाति जनजाति की जनसंख्या, नगरीकरण की स्थिति, साक्षरता एवं शैक्षिक, भाषा, आर्थिक गतिविधि को पलायन आदि के डाटा भी एकत्रित किए जाएंगे.

साथ ही उन्होंने बताया कि जनगणना को आसान और सरलता पूर्वक पूर्ण करने के लिए इस बार मोबाइल एप से भी जनगणना की जाएगी. जिसमें मकान सूचीकरण के बाद परिवारों से प्राप्त मोबाइल नंबर में ओटीपी के आधार पर नागरिक खुद दूसरे चरण में जनगणना के अंतर्गत मोबाइल एप के माध्यम से रजिस्ट्रेशन कर सकेंगे.

विशेष