राष्ट्रीय

कांग्रेस MLA के ‘रेप का मजा लो’ वाले विवादित टिप्पणी वाले बयान पर हुआ बवाल

कांग्रेस के विधायक और कर्नाटक विधानसभा के पूर्व अध्यक्ष रमेश कुमार (KR Ramesh Kumar) की विवादित टिप्पणी पर अब राजनीतिक जगत के नेताओं का गुस्सा फूट पड़ा है. एक के बाद एक नेताओं के बयान का सिलसिला शुरू हो गया हैं. दरअसल, रमेश कुमार ने महिलाओं के साथ रेप को लेकर बेहद आपत्तिजनक बयान दिया है. उन्होंने गुरुवार को विधानसभा में कहा, ‘जब बलात्कार होना ही है, तो लेटो और मजे लो.’ उनकी इस विवादित टिप्पणी की कई नेताओं ने निंदा की है.

केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने कहा, ‘विधानसभा जो महिला को संरक्षित करने का संकल्प लेती है उस धरा पर कांग्रेस नेता ने जो बयान दिया है वो शर्मनाक है. कांग्रेस का वो नेतृत्व जो उत्तर प्रदेश में कहता है मैं लड़की हूं लड़ सकती हूं. तो पहले कांग्रेस इस नेता को अपनी पार्टी से निष्काषित करें.’ कांग्रेस खेमे से नेता मलिलकार्जुन खड़गे ने कहा, ‘ऐसी अभद्र टिप्पणी नहीं करनी चाहिए थी. वो वरिष्ठ नेताओं में से हैं. उन्होंने ऐसा क्यों कहा ये समझ नहीं आ रहा है. अब उन्हें इस गलती का एहसास हुआ है और उन्होंने माफी मांगी है. लेकिन इस तरह की बातें कतई नहीं करनी चाहिए.’

दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाती मालीवाल (Swati Maliwal) ने कहा, ‘एमएलए कुमार ने हंसते हुए कहा कि जब रेप हो रहा हो, तो लेट के मजे लेने चाहिए! ऐसी घटिया और रेपिस्ट सोच वाले आदमी को कोई हक नही बनता कि वो विधानसभा में बैठे. मेरी अपील है कर्नाटक सरकार से इस आदमी पर FIR दर्ज कर अरेस्ट करो, विधानसभा से बर्खास्त करो और वीआईपी सिक्यूरिटी छीनो.’

‘कुमार का यह बयान बेहद शर्मनाक’

बीजेपी सांसद जगदंबिका पाल (Jagdambika Pal) ने कहा, ‘कांग्रेस एमएलए रमेश कुमार का यह बयान बेहद शर्मनाक है. जिस पार्टी की मुखिया स्वयं एक महिला हो उस पार्टी के विधायक अगर ऐसी बात करते हैं तो महिलाओं को कितनी पीड़ा होती होगी. रमेश कुमार को देश से माफी मांगनी चाहिए और कांग्रेस को उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई करनी चाहिए.’

रमेश कुमार के बयान पर केंद्रीय मंत्री अनुप्रिया सिंह पटेल (Anupriya Singh Patel) ने कहा, ‘मुझे आश्चर्य है कि राज्य के सदन में ऐसे लोग बैठे हैं जिन्हें महिला के प्रति न आदर और न सम्मान है. जिन लोगों ने इन्हें चुनकर वहां भेजा उन्हें एक बार सोचना चाहिए. इनकी पार्टी को ऐसे विधायक पर सख़्त कार्रवाई करनी चाहिए.’

‘अध्यक्ष को उन्हें रोकना चाहिए था’

केंद्रीय मंत्री प्रह्लाद जोशी ने कहा, ‘विधानसभा में ये बोलना ये सही नहीं है. कांग्रेस राजनीति का स्तर किस लेवल पर लेकर जा रही है ये इसका सबूत है. के.आर. रमेश कुमार काफी वरिष्ठ नेता हैं.’ वहीं, कर्नाटक सरकार में मंत्री शशिकला जोले ने कहा, ‘रमेश कुमार विधायक और स्पीकर रह चुके हैं उनके प्रति काफी सम्मान है. लेकिन उन्होंने ऐसा कहा इसके खिलाफ हम प्रदर्शन कर रहे हैं. वो अनुभवी नेता हैं. रमेश कुमार के बयान पर अध्यक्ष को उन्हें रोकना चाहिए था.’ बता दें कि रेप वाले बयान पर विवाद बढ़ने के बाद कांग्रेस विधायक रमेश कुमार ने सफाई देते हुए कहा, ‘अगर इस बयान से महिलाओं की भावनाओं को ठेस पहुंचा है तो मुझे माफी मांगने में कोई आपत्ति नहीं है. मैं तहे दिल से माफी मांगता हूं.’

Leave a Response