देश/प्रदेश

मरचूला में झूलती हाईटेंशन लाइन टकराने से घरों में दौड़ा करंट

रानीखेत/रामनगर : लगता है मरचूला हादसे के बावजूद ऊर्जा निगम ने कोई सबक नहीं लिया। तभी तो झूलती हाईटेंशन लाइन को दुरुस्त करने की जरूरत महसूस नहीं की जा रही। गनीमत रही कि लापरवाही के बाबजूद बड़ी जनहानि टल गई। बारिश के बीच तेज हवा से टोटाम गाव झूलती हाईटेंशन लाइन आपस में टकरा गई। धमाके के साथ जबर्दस्त शॉट सर्किट हुआ। इससे टोटाम व लुहेड़ा गांव के घरों में करंट दौड़ गया। एक किशोरी व युवक चपेट में आकर झुलस गए। उन्हें रामनगर चिकित्सालय में भर्ती कराया गया है। वहीं करीब 12 मकानों के मीटरों में चिंगारी के बाद आग भड़क उठी। शॉट सर्किट से करीब डेढ़ लाख रुपये की क्षति बताई जा रही।

टोटाम गाव में 440 केवीए की लाइन के ठीक ऊपर से बीते वर्ष 11 हजार केवीए की हाईटेंशन लाइन खींची गई थी। तब ग्रामीणों ने बगैर इंतजाम एक लाइन के ऊपर से दूसरी लाइन खींचे जाने का तीखा विरोध भी किया था। टोटाम गांव निवासी विनोद बिष्ट के मुताबिक निगम ने दोनों लाइन के बीच महज डेढ़ फुट की दूरी रख बगैर कसे छोड़ दिया। उस वक्त ग्रामीणों ने अंधड़ में लाइनों के टकराने की आशंका जता दी थी। मगर अधिकारियों ने अनदेखी कर दी।

शुक्रवार को बारिश के बीच तेज हवा चलने से झूलती दोनों लाइन आपस में टकरा गई। इससे इतना जबर्दस्त शॉर्ट सर्किट हुआ कि टोटाम व इससे लगे लुहेड़ा गांव के घरों में करंट दौड़ गया। साथ ही एक के बाद दूसरे मीटर फुंकते चले गए। चिंगारी के बीच घरों में आग भी लग गई। इस दौरान आनंद सिंह बिष्ट की 15 वर्षीय नीतू करंट की चपेट में आ गई। उसके दोनों पैर बुरी तरह झुलस गए। उधर, लुहेड़ा गांव में करंट लगने से अशोक बिष्ट की पीठ झुलस गई। दोनों को रामनगर चिकित्सालय में भर्ती कराया गया।

पिता की तत्परता से बची बेटी की जान

बेटी नीतू को करंट के झटके लगते ही पिता आनंद सिंह ने धैर्य नहीं खोया। बल्कि सूखे डंडे से मीटर से जुड़ी उस तार पर प्रहार किया, जिसके कारण भीगी दीवार पर करंट दौड़ा। हालांकि नीतू के पैर झुलस चुके थे।

================

इन ग्रामीणों के घरों में आग से फुंके उपकरण

लुहेड़ा गांव के हरीश कोटिया, चंद्रशेखर कोटिया, देव सिंह, गुसाई दत्त, काति बल्लभ निवासी लोहेड़ा। इसके अलावा टोटाम गाव में गोपाल सिंह, विनोद, बालम सिंह व आनंद सिंह।

 

विशेष