देश/प्रदेश

छात्रों ने एचआरडी मंत्री निशंक के सामने उठाया फीस वृद्धि का मामला

देहरादून,  हेमवती नंदन बहुगुणा गढ़वाल विवि की ओर से संबद्ध कॉलेजों में की गई फीस बढ़ोत्तरी का मामला मानव संसाधन विकास मंत्री डॉ. रमेश पोखरियाल निशंक के संज्ञान में लाया गया है। फीस बढ़ोत्तरी के विरोध में डीएवी कॉलेज छात्र संघ के वर्तमान व पूर्व अध्यक्षों ने उन्हें ज्ञापन सौंप फीस बढ़ोत्तरी वापस लेने की मांग की।

डॉ. निशंक ने छात्रों से कहा कि गढ़वाल विवि की ओर से एक मुस्त फीस में बढ़ोत्तरी ज्यादा की गई है। इस संबंध में विवि के कुलपति एवं कुलसचिव से जानकारी ली जाएगी। दून में मानव संसाधन विकास मंत्री डॉ. रमेश पोखरियाल निशंक से डीएवी कॉलेज के वरिष्ठ छात्र नेता ओम कक्कड़, पूर्व अध्यक्ष शुभम सिमल्टी, राहुल लारा, जितेंद्र सिंह बिष्ट व वर्तमान छात्र संघ अध्यक्ष निखिल शर्मा ने भेंट की।

उन्होंने बताया कि पिछले एक सप्ताह से दून के चारों कॉलेज डीएवी, डीबीएस, एसजीआरआर पीजी कॉलेज व एमकेपी कॉलेज के छात्र-छात्राएं कक्षाओं का बहिष्कार कर सड़कों में उतर कर आंदोलन कर रहे हैं। विवि ने उनकी फीस 850 रुपये से बढ़ाकर 2150 रुपये कर दी है। जिससे गरीब छात्र-छात्राएं इतनी बढ़ी हुई फीस कैसे भरेंगे।

गढ़वाल विवि से संबद्ध चारों अशासकीय कॉलेजों में गरीब व मध्यमवर्गीय परिवार के विद्यार्थी पढ़ाई करते हैं। इतनी अधिक फीस बढ़ोत्तरी से न केवल छात्र-छात्राएं बल्कि उनके अभिभावक भी चिंतित हैं।

डॉ. रमेश पोखरियाल निशंक ( मानव संसाधन विकास मंत्री) का कहना है कि छात्रों से ज्ञापन की प्रति लेने के साथ-साथ ई-मेल पर भी ज्ञापन मांगा गया है। ज्ञापन को एचएनबी गढ़वाल विवि के कुलपति व कुलसचिव को भेजा जाएगा व इतनी अधिक फीस बढ़ाने का कारण पूछा जाएगा। हमारे लिए देशभर में छात्र हित सर्वोपरि है।

डीबीएस पीजी कॉलेज के प्राचार्य डॉ. वीसी पांडे ने संशोधित आंतरिक परीक्षा कार्यक्रम जारी करते हुए बताया कि पहले आंतरिक परीक्षा 11 अक्टूबर को शुरू होनी थी, लेकिन अब उसमें आंशिक परिवर्तन किया गया है। अब परीक्षा 13 नवंबर से शुरू होगी।

फीस बढ़ोत्तरी के विरोध में आंदोलन कर रहे छात्र संघर्ष समिति की डीएवी में बैठक होगी, जिसमें आगे की रणनीति बनाई जाएगी। छात्र संघर्ष समिति के संयोजक व डीएवी छात्र संघ अध्यक्ष निखिल शर्मा ने बताया कि डीएवी कॉलेज में बीते पांच नवंबर से आंतरिक परीक्षा शुरू होनी थी जो छात्र आंदोलन के कारण स्थगित कर दी गई है।

छात्रों को आगे नुकसान न हो इसे देखते हुए कॉलेज प्रशासन व शिक्षकों से बातचीत कर आंतरिक परीक्षा शुरू करने पर चर्चा की जाएगी। मानव संसाधन विकास मंत्री डॉ. निशंक के संज्ञान में मामला लाया जा चुका है। छात्र एक-दो दिन फैसले का इंतजार करेंगे।

विशेष