स्टार्टअप

द्वारहाट का शेखर बिष्ट चीड़ के पत्तों से कर रहा है बिजली उत्पादन

द्वारहाट :  द्वारहाट के कुंथडी गाँव के रहने वाले 32 वर्षीय शेखर बिष्ट पिछले 3 सालों से चीड़ पेड़ के पत्तों से बिजली बना रहे हैं। चीड़ के पत्तों को पहाड़ों में पिरूल कहा जाता है और यह अनगिनत मात्रा में जंगलों में उपलब्ध हैं। बिष्ट के मुताबिक जंगलों में आग लगने की एक बड़ी वजह पिरूल ही है। यह बहुत जल्दी सूखते हैं और तुरंत आग पकड़ लेते हैं। पहाड़ों में लोग इन्हें बतौर ईंधन भी खूब इस्तेमाल करते हैं। और अब इन्हीं पिरूल को बिजली उत्पादन के लिए इस्तेमाल किया जा रहा है।

शेखर बिष्ट ने दसवीं के बाद आईटीआई का कोर्स किया और फिर पॉलिटेक्निक की। पॉलिटेक्निक के बाद उन्होंने पंजाब टेक्निकल यूनिवर्सिटी से इंजीनियरिंग की डिग्री हासिल की। वह कहते हैं, “मैंने टाटा मोटर्स जैसे कई नामी कंपनियों में लगभग 5-6 साल तक अपनी सेवाएं दीं। लेकिन इसके साथ-साथ मेरी रूचि हमेशा ही कोई स्वरोजगार ढूंढने में रही और वह मुझे पिरूल में मिला।”

बिष्ट ने पिरूल से बिजली उत्पादन के विषय पर कई सालों तक रिसर्च की। उन्होंने पढ़ाई के दौरान ही इस पर काम शुरू किया था और इस काम में उन्हें सहयोग मिला ‘अवनि संस्था’ का। पहाड़ों के लोगों के लिए रोज़गार के अवसर ढूंढने के उद्देश्य से शुरू हुआ यह संगठन लगातार नए-नए प्रयोगों में लोगों की मदद कर रहा है। बिष्ट ने भी इसी कैंपस में अपने ट्रायल्स करके देखे। इतना ही नहीं, उन्हें अवनि संगठन की मदद से ही अपना प्लांट लगाने के लिए इन्वेस्टमेंट मिली। वह बताते हैं कि साल 2016 में उन्होंने अपनी नौकरी छोड़ दी और अपने गाँव आ गए।

यहाँ आकर उन्होंने अपने प्लांट पर काम करना शुरू किया। अपने इस प्रोजेक्ट को उन्होंने उत्तराखंड सरकार के समक्ष भी प्रस्तुत किया और उन्हें कई डेमो प्रोजेक्ट करके दिखाए। पिरूल से बिजली उत्पादन का सफल प्रोजेक्ट देख, सरकार ने भी बिष्ट की मदद की। दरअसल, उत्तराखंड सरकार भी कई सालों से इस दिशा में काम कर रही है। साल 2017 में मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने खुद एक ट्वीट के ज़रिए कहा था राज्य में वैकल्पिक ऊर्जा के लिए पिरूल से बायोफ्यूल निकालने का काम शुरू हो चुका है।

उत्तराखंड के कुल वन क्षेत्र का 3,99,329 हेक्टेयर भाग सिर्फ चीड़ के पेड़ों का है और यहाँ पर पिरूल की काफी मात्रा है। इसलिए पिरूल से बिजली उत्पादन के सफल प्रयोगों को देखते हुए सरकार ने योजना बनाई। जो भी कंपनी पिरूल से बिजली उत्पादन के लिए पहाड़ों में प्लांट लगाएगी, उनसे वह बिजली उत्तराखंड पॉवर कारपोरेशन (सरकारी बिजली कंपनी) 7.54 रुपये प्रति यूनिट के हिसाब से खरीदेगी। इसके लिए यूपीसीएल ने कंपनियों के साथ एग्रीमेंट करना भी शुरू कर दिया है।

यूपीसीएल, द्वारहाट के एसडीओ राजेंद्र बताते हैं कि पिरूल से बिजली उत्पादन एक अच्छे स्वरोज़गार के अवसर के रूप में सामने आया है। पिरूल का यह सही उपयोग पहाड़ों में पलायन को रोक सकता है क्योंकि इससे लोगों को अपने घर में ही रोज़गार मिल रहा है। साथ ही, पिरूल जंगलों में आग लगने की बड़ी वजह है जिसमें लाखों-करोड़ों की संपत्ति के साथ वन्यजीवों की भी काफी क्षति होती है।

बिष्ट कहते हैं कि उन्होंने द्वारहाट में अपना प्लांट सेट-अप किया और साल 2017 से बिजली उत्पादन करना शुरू किया। 28 किलोवाट ऊर्जा क्षमता वाला यह प्लांट प्रतिदिन 250 यूनिट बिजली उत्पादन कर रहा है और इस बिजली को वह यूपीसीएल को बेच रहे हैं। हर महीने लगभग 6 हज़ार यूनिट्स कंपनी को बेचीं जाती हैं और जिससे उन्हें प्रतिमाह लगभग 45 हज़ार रुपये की कमाई होती है।

साल के अप्रैल महीने से लेकर जुलाई के महीने तक पिरूल गिरते हैं। इन पत्तों को इकट्ठा करने के लिए बिष्ट ने गाँव की ही 20 महिलाओं को लगाया हुआ है। इन महिलाओं से वह 2 रुपये किलोग्राम के हिसाब से पिरूल खरीदते हैं। 4 महीने में वह लगभग 250 टन पिरूल इकट्ठा करते हैं और यह पूरे साल के बिजली उत्पादन के लिए काफी रहता है। एक यूनिट बिजली उत्पादन के लिए एक से डेढ़ किलो पिरूल खर्च होता है।

सबसे पहले पिरूल को जलाया जाता है और इससे निकलने वाले गैस को जनरेटर और गैसीफायर द्वारा ऊर्जा में बदला जाता है। फिर इस ऊर्जा को पैनल और ग्रिड्स के ज़रिए बिजली में परिवर्तित कर यूपीसीएल को दिया जाता है। बिष्ट के प्लांट में गाँव के 4 युवक काम करते हैं और उन्हें भी अच्छा रोज़गार मिला हुआ है।

इस तरह से पिरूल कमाई और रोज़गार, दोनों का अच्छा विकल्प साबित हो रहा है। उत्तराखंड सरकार अपनी इस पॉलिसी के अंतर्गत, साल 2030 तक 100 मेगावाट बिजली उत्पादन का लक्ष्य रख रही है। शेखर बिष्ट जैसे काबिल नागरिकों के चलते यह लक्ष्य साकार होता भी दिखता है।

अगर आप शेखर बिष्ट से संपर्क करना चाहते हैं तो आप उन्हें 8057506070 पर मैसेज कर सकते हैं!

विशेष