देश/प्रदेश

pmgsy की सड़क ग्रामीणों के लिए बनी जी का जंजाल

(सुभाष पिमोली )चमोली :गांव सड़क से जोड़ने के लिए सन 2000 में प्रधानमंत्री ग्राम सड़क योजना की शुरुआत की गई थी, सन 2000 से अब तक लगभग अधिकांश गांव सड़क मार्ग से जुड़कर इस योजना का लाभ उठा चुके हैं, लेकिन सीमांत जनपद चमोली में pmgsy विभाग ही खुद इस योजना को शर्मसार करने पर तुला हुआ है,विभाग की देखरेख में कटी इन सड़कों की वर्तमान स्थिति ऐसी है कि इन पर वाहन तो दूर पैदल चलना भी दूभर हो चला है

थराली विकासखण्ड के तलवाड़ी गुडम स्टेट से विजयपुर चेपड़ो को जोड़ने के pmgsy के तहत सड़क कटिंग का कार्य 2016 से शुरू हुआ था इस मार्ग की कुल लंबाई लगभग 10 किमी के आसपास है,सड़क कटिंग का कार्य 2018 मे पूरा भी हो चुका है

2018 से 2020 तक सड़क के अनुरक्षण का समय भी पूरा हो चला है और सड़क पर सेकण्ड फेज का कार्य शुरू करने की कवायद भी शुरू हो गई है  सड़क कटिंग की कुल लागत 6 करोड़ से ऊपर ओर दो वर्ष अनुरक्षण अनुबंध की लागत 24 लाख के आसपास है ,लेकिन ये तस्वीरें बताती हैं ।

सड़क पर क्या वाकई विभाग इतना खर्च कर चुका है अगर कर ही चुका है तो क्यो यहां बसने वाली हजारो की आबादी अब भी कह रही है कि इस सड़क पर बस सरकारी खजाने को ठिकाने लगाया गया है,क्यो यहां के ग्रामीण कह रहे हैं कि सड़क पर सेकेंड स्टेज का कार्य तब शुरू होगा जब विभाग हमे प्रथम स्टेज का कार्य धरातल पर दिखायेगा ,वरना ग्रामीणों ने विभाग का विरोध करने की भी ठान ली है ।

इस सड़क से लाभान्वित होने वाले ग्रामीण इस सड़क पर प्रथम फेज के कार्य से बिल्कुल भी संतुष्ट नहीं है ,ग्रामीणों का कहना है कि जब से सड़क कटिंग का कार्य शुरू हुआ तब से एक बार भी ठेकेदार साइट पर नही आया ,और सड़क पर न तो प्रथम फेज में बनने वाली सुरक्षा दीवारें बन सकी हैं न ही सड़क मानकों के अनुसार चौड़ी काटी गई है ,ग्रामीणों का कहना है कि सड़क पर पानी की निकासी के लिए बनाए गए कई कलमट कॉज वे का सही स्थान निर्धारण नही हुआ है साथ ही जो कलमट बनाये गए हैं वो वर्तमान में बंद चल रहे हैं ।

ठेकेदार पर अनियमितता का आरोप लगाते हुए ग्रामीणों ने कहा कि पूर्व में दी गयी अधिकांश दीवारें वर्तमान में क्षतिग्रस्त हो गई हैं, सड़क कटिंग का अधिकांश मलबा अभी भी सड़क किनारे इधर उधर बिखरा पड़ा है जिससे बरसात में भूस्खलन का खतरा बना हुआ है

साथ ही ग्रामीणों ने बताया कि सड़क कटिंग के दौरान काटे गए खेतों में अब तक सड़क किनारे ज्यादातर जगहों पर सुरक्षा दीवारें नही लगी हैं ठेकेदार द्वारा बनाये गए कलमटो और दीवारों पर अनियमितता बरती गयी है ,आपको बता दे कि पिछले दिनों हुई हल्की फुल्की बारिश से ही सड़क पर कीचड़ का सैलाब सा बन गया था

जिसके चलते वाहन तो दूर इस सड़क से ग्रामीणों का पैदल चलना भी मुश्किल हो चला है,बरसात के दिनों में तो अक्सर सड़क पर मलबा आने की वजह से सड़क बन्द ही रहती है, ऐसे में ग्रामीण सड़क के प्रथम फेज में हुए कार्य की जांच की मांग न करें तो भला क्या करें वही ग्राम प्रधान कुँवर सिंह रौथाण बलवंत सिंह रौथाण पूर्व प्रधान सुजान सिंह बिष्ट दिगपाल सिंह बिष्ट कुँवर सिंह चीनवान देवी दयाल सुरेन्द्र सिंह चीनवान अबल सिंह बिष्ट हरेन्द्र सिंह शाह पूर्व प्रधान का कहना है जब तक सड़क मनको के अनुसार नही बनती तब तक विभाग के खीलाफ आंदोलन किया जाएगा।

विशेष