देश/प्रदेश

सड़क निर्माण कार्य मानकों से परे

  • सुभाष पिमोली चमोली नियमो को ताक पर रख काटी जा रही पेनगढ़ मोटर मार्ग निर्माण के दौरान वन भूमि एवं पेड़ पौधों को नुकसान पहुंचाने एवं निर्माण के दौरान निकले मलबे का निस्तारण डंपिंग जोन में किए जाने के बजाए अन्यत्र फेंकने, पिंडर नदी में डालने को लेकर सड़क निर्माण एजेंसी को वन विभाग ने नोटिस दिया है।
    थराली- पेनगढ़ मोटर मार्ग का प्रथम चरण का कार्य प्रधानमंत्री ग्रामीण सड़क योजना के तहत नेशनल प्रोजेक्ट्स कंस्ट्रक्शन कॉरपोरेशन लिमिटेड एनपीसीसी के द्वारा किया जा रहा है । सड़क निर्माण के दौरान यहां से निकले मलबे को चिन्हित स्थानों मे डाला जाना था,लेकिन सड़क निर्माण कर रहे ठेकेदार द्वारा मलवे का निस्तारण निर्धारित जोनों में न कर इधर-उधर गिराया गया है यहां तक कि अधिकांश मलवा पिंडर नदी में डाला गया है। मलवे को अन्यत्र गिराने से यहां वन भूमि एवं पेड़ पौधों को बड़ा नुकसान पहुंचा है,जिसे लेकर रेंज अधिकारी, मध्य पिण्डर क्षेत्र थराली ने 20 दिसम्बर को एनपीसीसी को नोटिस भी दिया है लेकिन बावजूद इसके ठेकेदार की मनमानी जारी है नियम कानूनों को ताक पर रखते हुए ठेकेदार द्वारा लगातार पर्यावरण को नुकसान पहुंचाते हुये पिंडर नदी में मलबा डाला जा रहा है ,पूर्व में दिए गए नोटिस में कहा गया है कि सड़क निर्माण के दौरान निकला मलवा डंपिंग जोन में डालने के बजाए अन्यत्र डाला जा रहा है जिससे वन भूमि एवं यहां पेड़ पौधों को नुकसान हो रहा है। वन भूमि के आसपास पिल्लरों का निर्माण भी किया जाना था जो नही किये गए है। जिसे लेकर नोटिस में कार्रवाई करने की बात कही गई है।
    वहीं एनपीसीसी ने भी ठेकेदार को वन विभाग से मिले नोटिस का हवाला देते हुए नोटिस जारी किया गया है लेकिन ये कार्यवाही कब होगी ये कहना इसलिए भी मुश्किल है कि दो बार नोटिस मिलने के बावजूद भी ठेकेदार द्वारा सड़क कटिंग का मलबा सीधे पिण्डर नदी में डाला जा रहा है जिससे वन संपदा को तो नुकसान हो ही रहा है अलबत्ता जगह जगह मलबा डाले जाने से भूस्खलन का भी खतरा बना हुआ है,ठेकेदार द्वारा बार बार बरती जा रही इस अनियमितता को लेकर आसपास के गांवों के ग्रामीण उपजिलाधिकारी थराली को भी ज्ञापन दे चुके हैं लेकिन कार्यवाही के नाम पर अब तक कुछ भी न हो सका है जिससे साफ हो जाता है कि जहां एक ओर भारत सरकार पर्यावरण संरक्षण के लिए लगातार इतने जनजागरूकता कार्यक्रम चला रही है वहीं ग्रामीण क्षेत्रो में बेरोकटोक किस तरह ठेकेदार ngt के नियमो की धज्जियां उड़ा रहे हैं
    रेंज अधिकारी थराली गोपाल सिंह बिष्ट का कहना है कि विभाग को नोटिस दिया गया है,वन विभाग के उच्च अधिकारियों को अवगत कराया जा चुका है,साथ ही उन्होंने कहा कि जल्द ही वन संपदा को पहुंचाए गए नुकसान का आगणन कर भारत सरकार को भेजा जा चुका है वही स्थानीय लोगो मे रोष बना हुआ है उनका कहना है अगर थरली पेनगढ़ मोटर मार्ग का निर्माण सही नही किया गया तो आगे उग्र आंदोलन किया जाएगा।

विशेष