देश/प्रदेश

राजस्थान विधानसभा अध्यक्ष बोले लोकतंत्र के लिए ठीक नहीं दल बदल

देहरादून,राजस्थान विधानसभा अध्यक्ष सीपी जोशी ने कहा कि दल बदल लोकतंत्र के लिए ठीक नहीं है। दल बदल को देखते हुए इस पर अंकुश के मद्देनजर संविधान की 10वीं अनुसूची में अध्यक्ष को शक्ति दी गई।

इस बीच देश में अलग-अलग राज्यों में अध्यक्षों ने अलग-अलग निर्णय दिए। बाद में सदस्यों का त्यागपत्र दिलवाकर इसका तोड़ निकाल दिया गया। ऐसे में कोई निर्णय कैसे आएगा। लिहाजा, 10वीं अनुसूची के मसले को रिव्यू करने की आवश्यकता है।

दून में पीठासीन अधिकारियों के सम्मेलन में भाग लेने आए राजस्थान के विस अध्यक्ष जोशी ने पत्रकारों से अनौपचारिक बातचीत में कहा कि दल बदल लोकतंत्र के लिए ठीक नहीं है।

अनुसूची 10 में भी कमी है। यदि सदस्य को त्यागपत्र दिलवा दिया गया तो इसका क्या महत्व रह जाता है। उन्होंने कहा कि इसका महत्व तब है, जब किसी पार्टी का सदस्य पार्टी व्हिप को न माने।

जब उसे त्यागपत्र दिला देंगे तो अनुसूची-10 की मान्यता क्या रह जाएगी। उन्होंने कहा कि दल बदल से लोकतंत्र कमजोर न हो, इसके लिए नए सिरे से चर्चा की जरूरत है। साथ ही अनुसूची-10 के भी रिव्यू की जरूरत है।

उन्होंने बताया कि पीठासीन अधिकारी सम्मेलन में इस अहम मसले पर भी मंथन होगा। एक अन्य प्रश्न पर उन्होंने कहा कि देश में लोकतंत्र मजबूत होकर उभर रहा है। प्रश्न ये है कि नियमों का पालन करते हुए चर्चा से समस्याओं का समाधान हो, ताकि तर्कपूर्ण निर्णय लिए जा सकें।

विशेष