देश/प्रदेश

गन्ना और धान के बकाए को लेकर सियासत जारी

हल्द्वानी: प्रदेश में धान और गन्ना खरीद के बकाया भुगतान को लेकर सड़क से लेकर सदन तक विपक्ष ने हंगामा खड़ा कर दिया है. यही नहीं किसान भी गन्ने के बकाए को लेकर बार-बार आंदोलन कर रहे हैं, ऐसे में गन्ना और धान खरीद विभाग जल्द भुगतान करने की बात कर रहा है.

वहीं मामले को लेकर क्षेत्रीय खाद्य नियंत्रक और गन्ना आयुक्त ललित मोहन रयाल ने बताया कि इस वर्ष सरकारी क्रय केंद्र और निजी एजेंसी द्वारा 1,758 करोड़ की पूरे प्रदेश में धान की खरीदी की गई है,

जिसमें 1,470 करोड़ का पेमेंट किसानों को ऑनलाइन किया जा चुका है. उन्होंने बताया कि प्रदेश में अभी 2,87 करोड़ रुपए बकाया है.

जिसकी प्रक्रिया चल रही है और जल्द जारी कर दिए जाएंगे. साथ ही उन्होंने कहा कि निजी एजेंसियों द्वारा इस वर्ष 1,383 करोड़ की खरीदी की गई है.

क्षेत्रीय खाद्य नियंत्रक और गन्ना आयुक्त ने बताया कि पिछले सत्र में 1,170 करोड़ की गन्ने की खरीद की गई थी, जिसमें 1,003 करोड़ का भुगतान किया जा चुका है,

जबकि 167 करोड़ों रुपए भुगतान किया जाना बकाया है. उन्होंने बताया कि प्रदेश की चार सरकारी चीनी मिलों पर 43 करोड़ का भुगतान बकाया है, जो जल्द किसानों को दिया जाएगा जिसके लिए शासन में प्रक्रिया चल रही है,

जबकि इकबालपुर निजी चीनी मिल पर 109 करोड़ बकाया हैं, जबकि उत्तम शुगर मिल पर 15 करोड़ बकाया हैं. साथ ही उन्होंने बताया कि निजी चीनी मिलों द्वारा 124 करोड़ का किसानों का भुगतान बकाया है, जिसके लिए उनको निर्देशित किया जा चुका है और जल्द बकाया भुगतान कर दिया जाएगा.

विशेष