देश/प्रदेश

राजस्थान में गहलोत सरकार संकट में घिरी, पॉयलट विधायकों संग दिल्ली पहुंचे

राजस्थान में गर्मी बढ़ने के साथ ही सियासी पारा भी चढ़ चुका है. मुख्यमंत्री और उपमुख्यमंत्री के बीच चल रही अनबन अब खुलकर सामने आने लगी है. बताया जा रहा है सचिन पायलट दिल्ली में हैं और सीएम गहलोत विधायकों से समर्थन पत्र मांग रहे हैं. गहलोत खेमे का आरोप है कि सचिन पायलट बीजेपी के संपर्क में हैं. इस सियासी ड्रामे पर राजस्थान कांग्रेस के प्रभारी (Rajasthan Congress In charge) अविनाश पांडे लगातार पार्टी के डेवलेपमेंट्स को लेकर कांग्रेस लीडरशिप को अपडेट दे रहे हैं. अविनाश पांडे ने दावा किया है कि राजस्थान सरकार (Rajasthan Government) को कोई खतरा नहीं है.

राजस्थान पुलिस का सीएम-डिप्टी सीएम को नोटिस

वहीं राजस्थान पुलिस ने राज्य सरकार गिराने के कथित प्रयासों के आरोप पर मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, डिप्टी सीएम सचिन पायलट और अन्य 14 कांग्रेसी नेताओं को नोटिस जारी कर बयान दर्ज कराने को कहा है. वहीं इस सियासी ड्रामे पर केंद्रीय मंत्री और भारतीय जनता पार्टी के नेता गजेंद्र सिंह शेखावत ने ट्वीट कर लिखा बेजीपी Lead, कांग्रेस Mislead.

सचिन पायलट दिल्ली में मौजूद

आपको बता दें कि राजस्थान के उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट (Sachin Pilot) कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी (Sonia Gandhi) से मिलने दिल्ली पहुंचे हैं. उन्होंने पार्टी प्रमुख से मिलने के लिए समय मांगा है. यह जानकारी सूत्रों के हवाले से रविवार को मिली. सूत्रों ने बताया कि पायलट के खेमे के करीब एक दर्जन विधायक NCR-दिल्ली क्षेत्र के अलग-अलग जगहों पर ठहरे हुए हैं. पायलट शनिवार को दिल्ली आए थे.

सीएम गहलोत ने विधायकों से मांगा समर्थन

सूत्रों के अनुसार, पायलट खेमे के सदस्य माने जाने वाले विधायक पी. आर. मीणा (PR Meena) ने राजस्थान में अशोक गहलोत सरकार द्वारा उनसे किए जाने वाले सौतेले व्यवहार से सोनिया गांधी को अवगत कराने के लिए उनसे मिलने की मांग की थी.

माना जा रहा है कि राजस्थान सरकार (Rajasthan Government) से नाराज चल रहे कांग्रेस के विधायक सोनिया गांधी से मिलकर अपनी बात रख सकते हैं. इसी बीच मुख्यमंत्री गहलोत (Ashok Gehlot) ने शनिवार देर रात जयपुर में अपने आधिकारिक आवास पर अपने मंत्रियों की बैठक बुलाई और सभी पार्टी विधायकों को उन्हें समर्थन पत्र देने को कहा.

विशेष