देश/प्रदेश

राम मंदिर भूमिपूजन की तैयारियां पूरी, 32 सेकेंड में आधारशिला रखेंगे प्रधानमंत्री

अयोध्या : राम मंदिर भूमि पूजन को लेकर श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट की तैयारियां पूरी हो गई हैं. ट्रस्ट ने प्रधानमंत्री कार्यालय को अतिथियों की सूची फाइनल कर भेज दी है. 32 सेकेंड में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपने हाथों भगवान राम की जन्मस्थली पर राम मंदिर की आधारशिला रख कर इतिहास रचेंगे. राम मंदिर भूमि पूजन के भव्य अनुष्ठान में भारतीय जनता पार्टी राम मंदिर आंदोलन से जुड़े वरिष्ठ लोग आरएसएस समेत कई दिग्गज मौजूद रहेंगे. भगवान राम की जन्मस्थली पर भव्य राम मंदिर की शुरुआत और प्रधानमंत्री के आगमन की तैयारी राम नगरी के प्रवेश द्वार से ही झलक रही है. हाईवे के जिस मार्ग से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी गुजरेंगे वहां विभिन्न कलाकृतियों से सजावट की गई है.

राम मंदिर भूमि पूजन के दिन दिखेगी दीपोत्सव की झलक
पिछले दीपोत्सव के दिन सर्वाधिक दीये एक साथ जलाने के लिए अयोध्या का नाम गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में दर्ज हुआ था. एक बार फिर राम मंदिर की शुरुआत पर राम नगरी में दीपोत्सव की झलक देखने को मिलेगी. श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के सदस्यों और अयोध्या के संतों महंतों ने सभी प्रमुख स्थलों पर राम मंदिर निर्माण की शुरुआत के अवसर पर दीप जलाने का निर्णय लिया है. राम नगरी के हनुमानगढ़ी, दशरथ महल, कनक भवन, सीता रसोई, रंग महल, छोटी देवकाली, बड़ी देवकाली समेत अयोध्या के प्रमुख मठ मंदिरों में 2 दिन दीए जलाए जाएंगे. दीपोत्सव का कार्यक्रम 4 और 5 अगस्त को आयोजित किया जाएगा.

ट्रस्ट ने भूमि पूजन में शामिल होने वाले लोगों की सूची PMO को भेजी
राम मंदिर भूमि पूजन को लेकर तैयारी पूरी करने के बाद प्रधानमंत्री कार्यालय को अनुष्ठान में शामिल होने वाले मेहमानों की सूची भेज दी गई है. हालांकि ट्रस्ट ने सदस्यों की संख्या नहीं बताई है, लेकिन कहा है कि कोरोना काल के चलते अनुष्ठान में सीमित संख्या में लोगों को शामिल किया जाएगा. 5 अगस्त को भारत में रहने वाला हिंदू समाज त्योहार के रूप में मनाएगा.

राम मंदिर भूमि पूजन में 200 लोगों के नाम पर बनी सहमति
श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट ने राम मंदिर भूमि पूजन में आमंत्रित करने के लिए 268 लोगों की सूची बनाई थी, लेकिन करीब 200 लोगों के नाम पर सहमति बनी है. इसमें 50-50 लोगों के ब्लॉक निर्धारित किए गए हैं. जिसमें से एक ब्लॉक देश के बड़े साधु संतों और महंतों का होगा. वहीं दूसरा ब्लॉक बड़े नेताओं को होगा जो राम मंदिर आंदोलन से जुड़े रहे हैं. इनमें सरसंघचालक मोहन भागवत, लालकृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी, कल्याण सिंह, उमा भारती, साध्वी ऋतंभरा और विनय कटियार जैसे लोग शामिल होंगे. साथ ही कुछ राज्यों के मुख्यमंत्री भी शामिल हो सकते हैं. एक ब्लॉक उद्योगपतियों अधिकारियों और दूसरे गणमान्य लोगों का भी होगा.

राम मंदिर भूमि पूजन देशवासी देख सकेंगे लाइव
बहुप्रतीक्षित राम मंदिर की शुरुआत और प्रधानमंत्री के कार्यक्रम को लोग लाइव देखना चाहते हैं. वहीं कोरोना महामारी के चलते ट्रस्ट ने सीमित संख्या में लोगों को शामिल करने की योजना बनाई है. राम मंदिर भूमि पूजन के कार्यक्रम को दूरदर्शन के जरिए लाइव प्रसारित किया जाएगा. राम मंदिर की आधारशिला रखने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का संबोधन होगा, जिसे पूरे अयोध्या शहर में हर चौराहों और प्रमुख स्थलों पर एलईडी स्क्रीन के जरिए दिखाने की व्यवस्था करने की बात कही जा रही है. अयोध्या फैजाबाद दोनों शहरों में जगह-जगह एलईडी स्क्रीन लगाई जाएगी. वहीं पीएम मोदी के उद्बोधन को सभी लोग सुन सकें इसके लिए लाउडस्पीकर भी शहर में लगेंगे.

32 सेकेंड में चांदी की 5 शिलाओं से पीएम राम मंदिर निर्माण की करेंगे शुरुआत
ज्योतिषियों ने राम मंदिर के भूमि पूजन का मुहूर्त 5 अगस्त को दोपहर 12 बजकर 15 मिनट 15 सेकेंड से 12 बजकर 15 मिनट 47 सेकेंड तक निश्चित किया है. इसी 32 सेकेंड के बीच पीएम अपने हाथों से आधारशिला के रूप में 5 रजत शिलाएं रखेंगे. रजत शिला के ऊपर पांच नक्षत्र के प्रतीक अंकित होंगे. राम मंदिर की आधारशिला में पीएम के हाथों स्थापित की जाने वाली चांदी की शिलाएं अयोध्या के प्राचीन मठ सी मणिराम दास छावनी के महंत और राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के अध्यक्ष महंत नृत्य गोपाल दास की ओर से रामलला को समर्पित की गई है.

पीएम के आने से पहले पूजा पाठ का अनुष्ठान हो जाएगा पूरा
5 अगस्त को 11:30 पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जन्मभूमि परिसर में प्रवेश करेंगे. उनके प्रवेश करने से पहले भूमि पूजन को लेकर पूजा पाठ का अनुष्ठान पूरा कर लिया जाएगा. श्री मणिराम दास छावनी के उत्तराधिकारी महंत कमलनयन दास का कहना है कि जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी राम जन्मभूमि पर पहुंचेंगे तो उनके हाथों आधारशिला रखने का कार्यक्रम संपन्न कराया जाएगा. राम मंदिर की आधारशिला रखने के बाद श्री राम जन्मभूमि परिसर से सटे अयोध्या के प्राचीन हनुमान मंदिर में भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दर्शन करने के लिए जाएंगे. वह बजरंगबली के दर्शन करने के बाद सीधे अयोध्या एयरपोर्ट के लिए रवाना होंगे.

साकेत महाविद्यालय में हेलीपैड होगा स्थापित
राम मंदिर भूमि पूजन वीवीआइपी दौरे को देखते हुए अयोध्या के एस साकेत पीजी कॉलेज में अस्थाई हेलीपैड बनाया जाएगा. यह हेलीपैड राम जन्मभूमि परिसर से महज कुछ मीटर की दूरी पर स्थित है. सुरक्षा की दृष्टि से साकेत महाविद्यालय के परिसर में हेलीकॉप्टर की लैंडिंग महत्वपूर्ण मानी जा रही है. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ अयोध्या दौरे के दौरान साकेत महाविद्यालय में स्थापित होने वाले हेलीपैड भूमि का निरीक्षण कर चुके हैं.

विशेष