राष्ट्रीय

6 महीने में बनारस के लोगो ने पी 1300 करोड़ की शराब

वाराणसी: बाबा विश्वनाथ के शहर बनारस (Banaras) में इन दिनों शराब और मांस की बिक्री पर रोक लगाने की आवाज उठने लगी है. धर्म नगरी में काशी में इस आवाज के बीच चौकानें वाले आंकड़े सामने आए हैं. बीते 6 महीने में बनारसी 1300 सौ करोड़ की शराब गटक गए हैं. ये हम नहीं कह रहे ये आंकड़ा है आबकारी विभाग का जो शराब, भांग जैसी चीजों की बिक्री पर मॉनिटरिंग का काम करती है. विभाग के आंकड़े के मुताबिक वाराणसी (Varanasi) में पर्यटन कारोबार के बीच शराब की खपत भी बढ़ी है. जिला आबकारी अधिकारी ओम वीर सिंह ने बताया कि 2019 में कोरोना काल के दौरान इसमे कमी आई थी. लेकिन इस बार विभाग की ओर से दिए गए टारगेट का 50 फीसदी 6 महीने में ही कवर हो गया. वाराणसी में पिछले 6 महीने में शराब और बीयर की बिक्री से सरकार को करीब 700 करोड़ रुपये का फायदा हुआ है.

1300 करोड़ रुपये की शराब गटक गए बनारसी
विभाग की ओर से मिली जानकारी के मुताबिक, वाराणसी में छः महीने में बनारसी करीब 1300 करोड़ की शराब और बीयर पी गए हैं. ये आंकड़ा पिछले साल की अपेक्षा करीब डेढ़ गुना तक बढ़ा है. मार्च से सितंबर के बीच वाराणसी में करीब 5 लाख से बोतल शराब की बिक्री हुई है .वहीं बात यदि बीयर की करें तो करीब 17 लाख बीयर के बोतल और केन की खपत हुई है. ऐसा तब हुआ जब शराब और मांस की बिक्री पर प्रतिबंध लगाने के लिए वाराणसी में संतों के साथ समाज सेवी संस्थाएं लगातार आवाज उठा रही थीं और लोगों को इसका सेवन नहीं करने के लिए लगातार जागरूक भी कर रही हैं.

Leave a Response