देश/प्रदेश

बदरी विशाल जी की शीतकालीन भूमि पांडुकेश्वर को भी किया सेनेटाइस

पांडुकेश्वर: देश में एक गम्भीर महामारी का रूप ले रही कोरोना वाइरस जहां एक तरफ़ सम्पूर्ण देश 21 दिनो के लिए पूर्ण रूप से कर दिया गया हे वही दूसरी ओर विश्व के प्रख्यात वेज्ञानिको एवं डाक्टरों की मानें तो सामाजिक दूरी एवं सेनेटाइज़ से ही इस गम्भीर बीमारी से निजात पाया जा सकता है।
इसी को मध्यनज़र रखते हूये हमेशा से सामाजिक कार्यों में अपना पूर्ण रूप से सहयोग देने वाली विश्वा कर्मा सेवा समिति बद्रीनाथ धाम मुख्य पड़ाव पांडुकेश्वर में बाज़ार में सम्पूर्ण दुकानें, गांव सहित गुरुद्वारा गोविंदघाट,थाना गोविंदघाट पिनोला आदि जगह जाकर सेनेटाइज़ किया गया।  ग्राम प्रधान बबिता पंवार की मानें तो हमारा पाण्डुकेस्वर एक सीमांत गांव में आता है।
पांडुकेश्वर ही है भगवान बदरी विशाल जी की शीतकालीन पूजा स्थली । अगर क्षेत्रफल की दृष्टि से देखा जाय तो जोशिमठ ब्लाक के अंतर्गत यह सबसे ज़्यादा जनसंख्या वाले गांवों में से भी एक है। ग्राम प्रधान बबिता पंवार का कहना है कि ज़िला प्रशासन द्वारा यहां कोरोना जैसी गम्भीर महामारी से निजात पाने हेतु केवल 5 किलो ब्लीचिंग पाउडर ही मुहैया कराया गया है।
लेकिन गांव की दुर्दशा के चलते कोई भी सफ़ाईकर्मी भी गांव  में  मौजूद नहीं है, जो ब्लीचिंग पाउडर का छिड़काव कर सके। ना इस समस्या से सम्बंधित कोई भी उपकरण अभी ग्राम सभा को मुहेया कराए गये। लेकिन विश्व कर्मा सेवा समिति का जिनके द्वारा  की आज गांव को पूर्ण रूप से सेनेटाइज़ किया गया।
वहीं, दूसरी ओर गुरुद्वारा गोविंदघाट कमेटी के प्रबंधक सेवा सिंह ने भी कमेटी का आभार व्यक्त करते हुए कहा कि इस विकट परिस्तिथि में ग्राम सभा पाण्डुकेस्वर में किसी भी रूप गोविंदघाट गुरुद्वारा कमेटी की सहयोग की ज़रूरत होती है तो गुरुद्वारा कमेटी हमेशा आपके साथ तैयार है। वहीं, दूसरी ओर गोविंदघाट थानाअध्यक्ष  बृहमोहन राणा का कहना है कि जिला प्रशासन की ओर से सभी विश्वा कर्मा सेवा समिति का आभार करती है  जिन्होंने की इस मुश्किल घड़ी में इस तरह की मुहिम चलायी है।

विशेष