राष्ट्रीय

पहाड़ी-गुज्जर और बकरवाल को मिलेगा अनुसूचित जनजाति का आरक्षण

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने राजोरी में जनसभा में बड़ी घोषणा की है। उन्होंने पहाड़ी समुदाय को अनुसूचित जनजाति का दर्जा दिए जाने का ऐलान किया है। साथ ही उन्होंने विपक्षी पार्टियों पर निशाना साधा। गृहमंत्री ने कहा कि पहले सिर्फ प्रदेश में तीन परिवारों तक ही लोकतंत्र सीमित था, लेकिन अब इसमें तीन हजार से अधिक लोग सीधे शामिल हुए हैं। यहां पंचायतों तक लोकतंत्र पहुंचा है। इससे पहले उन्होंने पवित्र गुफा में पूजा-अर्चना की और मां भगवती से शांति और समृद्धि की कामना की। राजोरी में जनसभा में शामिल होने के लिए दूर-दूर से लोग पहुंचे।

जनसभा में क्या बोले अमित शाह-
  • तीन परिवार से तीन हजार लोगों  तक पहुंचा लोकतंत्र
  • धारा 370 हटाने से पिछड़े, दलित, आदिवासी, पहाड़ियों को उनका अधिकार मिला।
  • सफाई कर्मचारियों के पास कोई अधिकार नहीं था। अब उन्हें उनका हक मिला है।
  • यहां पर एससी/एसटी एट्रोसिटी एक्ट नहीं था, जो अब जाकर मिला है।
  • महिलाओं को भी उनका अधिकार मिला है
  • पहले जो परिसीमन हुआ तो सिर्फ तीन परिवारों के फायदे के लिए, लेकिन इस बार आम जनता के लिए परिसीमन हुआ। सालों से लखनपूर में टोल टेक्स का बूथ लगा था, जिसे अब हटा दिया गया है। इसे समाप्त करके महंगाई को काबू में करने का काम किया है।
  • पहले आए दिन पथराव की घटना होती थी, लेकिन क्या अब आते हैं। अब युवाओं के हाथ से पत्थर लेकर लैपटॉप दिए गए हैं।
  • वो कहते थे धारा 370 हटाएंगे तो खून की नदियां बहेंगे, लेकिन आज की जनसभा उनको करारा जवाब है।
  • जस्टिस शर्मा का कमीशन बना है। तीनों को आरक्षण देने की सिफारिश की गई है। प्रधानमंत्री का मन है कि इसे सिफारिश को जल्द से जल्द लागू किया जाए। गुज्जर, बकरवाल और पहाड़ियों को आरक्षण मिलेगा।
  • पिछले 75 साल में 15 हजार करोड़ का औद्योगिक निवेश आया है, जबकि तीन साल में 56 हजार करोड़ का निवेश आया है।

राजोरी: वीवीआईपी दौरे पर यातायात एडवाइजरी जारी

गृह मंत्री के दौरे पर अधिकारियों ने यातायात एडवाइजरी जारी की है। यातायात पुलिस कार्यालय ग्रामीण जम्मू की तरफ से जारी एडवाइजरी के अनुसार पुंछ, सुरनकोट, मेंढर और मंजाकोट मार्गों से चलने वाले वाहनों को यात्रा मैदान पर उतारा जाएगा। हल्के निजी वाहनों को काफिले मैदान में खड़ा किया जाएगा।

पुंछ, सुरनकोट, मेंढर और मंजाकोट रूट की बसें, मिनी बसें, टाटा सूमो, काफिले ग्राउंड में प्रतिभागियों को डी-बोर्ड करने के बाद लौटाकर स्कॉस्ट ग्राउंड टंडवाल में पार्क किया जाएगा। सुंदरबनी, नौशेरा और कालाकोट मार्गों से चलने वाले वाहन पंजपीर में डी-बोर्ड किए जाएंगे और लाइट मोटर निजी वाहनों को बीएसएफ के काफिले मैदान, पर्यटन पार्किंग (अल्फा गेट) पर खड़ा किया जाएगा।

Leave a Response