Home राष्ट्रीय उत्तर भारत में शीत लहर का प्रकोप जारी

उत्तर भारत में शीत लहर का प्रकोप जारी

15
0
SHARE

नई दिल्ली : उत्तर भारत में इन दिनों कड़ाके की ठंड पड़ रही है. जम्मू-कश्मीर एवं उत्तराखंड के ऊंचाई वाले क्षेत्रों में बर्फबारी के कारण न्यूनतम तापमान में और गिरावट दर्ज की गई है. वहीं, उत्तराखंड में बर्फबारी से जुड़ी घटनाओं में तीन लोगों की मौत हो गई.

वहीं लद्दाख का द्रास सबसे ठंडा स्थान रहा, जहां न्यूनतम तापमान शून्य से 19.6 डिग्री सेल्सियस नीचे चला गया.

राष्ट्रीय राजधानी में सुबह हल्का कोहरा छाया रहा और न्यूनतम तापमान 9.6 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया. अधिकतम तापमान 19.8 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया. शहर में कई स्थानों पर कोहरे के कारण दृश्यता कम हो गई.

उत्तराखंड में, पिछले कुछ दिनों में बर्फबारी से संबंधित अलग-अलग घटनाओं में कम से कम तीन लोगों की मौत हो गई. जम्मू-कश्मीर, लद्दाख, राजस्थान, पंजाब और हरियाणा में न्यूनतम तापमान में गिरावट देखी गई, जबकि उत्तर प्रदेश के कुछ हिस्सों में हल्की बारिश हुई.

मौसम विभाग ने पंजाब और राजस्थान के कुछ हिस्सों में घना कोहरा छाने की आशंका जताई है.

तमिलनाडु, पुडुचेरी, कराईकल, लक्षद्वीप और जम्मू-कश्मीर, बिहार, मध्य प्रदेश, पश्चिम बंगाल, सिक्किम, उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, विदर्भ, आंध्र प्रदेश, रायलसीमा और कर्नाटक के कुछ स्थानों पर वर्षा हुई.

हाल में बर्फबारी के बाद जम्मू कश्मीर और लद्दाख भीषण सर्दी की चपेट में हैं. इस वजह से श्रीनगर-जम्मू राष्ट्रीय राजमार्ग रविवार को लगातार चौथे दिन भी बंद रहा.

मौसम विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि दोनों केंद्रशासित प्रदेशों के अधिकतर हिस्सों में रात के तापमान में गिरावट देखी गई. जम्मू शहर में 5.8 डिग्री सेल्सियस तापमान के साथ इस मौसम की अब तक की सबसे ठंडी रात रही.

उन्होंने बताया कि हालांकि, इसके बाद लेह में न्यूनतम तापमान शून्य से 13.5 डिग्री नीचे रहा. श्रीनगर में न्यूनतम तापमान 0.5 डिग्री सेल्सियस रहा. यातायात विभाग के एक अधिकारी ने बताया कि जवाहर सुरंग के पास और आसपास के क्षेत्रों में गुरुवार शाम भारी बर्फबारी के चलते बंद हुआ 270 किलोमीटर लंबा जम्मू-श्रीनगर राष्ट्रीय राजमार्ग आज लगातार चौथे दिन भी बंद रहा.

उन्होंने कहा कि राजमार्ग को खोलने के प्रयास जारी हैं. पंजाब और हरियाणा के अधिकांश स्थानों में रविवार को न्यूनतम तापमान में मामूली गिरावट के साथ पारा सामान्य के आसपास या ऊपर दर्ज किया गया.

मौसम विभाग के एक अधिकारी ने यहाँ बताया कि दोनों राज्यों की राजधानी चंडीगढ़ में न्यूनतम तापमान 9.6 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया.

हरियाणा के अंबाला, करनाल, सिरसा, हिसार और रोहतक में न्यूनतम तापमान सामान्य के करीब दर्ज किया गया. पंजाब के लुधियाना, पटियाला, हलवारा और गुरदासपुर में रात का तापमान सामान्य से ऊपर रहा. अमृतसर, पठानकोट, बठिंडा, और आदमपुर में पारा सामान्य के करीब दर्ज किया गया.

मौसम विभाग के अधिकारी ने कहा कि अगले दो दिनों तक रात का तापमान और गिरने की संभावना है. उन्होंने बताया कि कोहरे के कारण पंजाब और हरियाणा के प्रमुख शहरों में दृश्यता में कमी रही. उत्तराखंड में पिछले दो से तीन दिनों में भारी हिमपात के कारण ठंड से तीन लोगों की मौत हो गई जबकि प्रदेश में राष्ट्रीय राजमार्ग सहित दर्जनों रास्ते आवाजाही के लिये बंद कर दिये गए हैं.

हांलांकि, आज ज्यादातर जगहों पर मौसम साफ रहा और धूप निकली जिससे हवा में ठिठुरन और बढ गई. चमोली जिले के गैंड गांव में एक व्यक्ति की बर्फ में दबने से मौत हो गई और पुलिस के अनुसार उसकी पहचान मदन मोहन (59) के रूप में की गई है और घर लौटते समय उसकी मौत हो गई.

एक अन्य घटना में पौड़ी जिले में काशीपुर—बुआखाल राष्ट्रीय राजमार्ग पर एक व्यक्ति बर्फ से फिसलकर खाई में गिर गया जिससे उसकी मृत्यु हो गई. मृतक की पहचान नरेंद्र सिंह नेगी (50) के रूप में की गई है. तीसरी घटना में संतोष सुन्दिरयाल नामक व्यक्ति की भी पौड़ी जिले के बलूडी गांव में बर्फ से फिसलकर खाई में गिरने से मौत हो गई.

फिलहाल ठंड से राहत मिलने की कोई संभावना नहीं है. मौसम विभाग द्वारा आज यहां जारी पूर्वानुमान में, फिलहाल कहीं—कहीं विशेषकर उत्तरकाशी, चमोली और पिथौरागढ जिलों में हल्की वर्षा या बर्फवारी की संभावना व्यक्त की गई है. पूर्वानुमान में कहा गया है कि 2500 मीटर या उससे अधिक उंचाई वाले स्थानों में बर्फवारी हो सकती है.

राजस्थान के अधिकतर स्थानों पर न्यूनतम तापमान में कल के मुकाबले एक से दो डिग्री तक गिरावट दर्ज की गई और राज्य के सभी प्रमुख शहरों में न्यनूतम तापमान सामान्य से दो से तीन डिग्री सेल्सियस नीचे दर्ज किया गया. मौसम विभाग के प्रवक्ता ने बताया कि रविवार सुबह चूरू, सीकर और श्रीगंगानगर में घना कोहरा और बीकानेर संभाग में मध्यम दर्जे का कोहरा छाया रहा और दृश्यता में कमी के कारण वाहन चालकों को आवागमन में परेशानियों का सामना करना पड़ा.

उन्होंने बताया कि चूरू में घने कोहरे के कारण दृश्यता मात्र 50 मीटर, सीकर-श्रीगंगानगर में 100 मीटर और बीकानेर संभाग में 200 मीटर मापी गई. मौसम विभाग ने अलवर, भरतपुर, दौसा, धौलपुर, झुंझुनूं, करौली, सीकर तथा पश्चमी राजस्थान में बीकानेर, चूरू, हनुमानगढ़, नागौर एवं श्रीगंगानगर जिलों में घना कोहरा छाए रहने का अनुमान लगाया है.

LEAVE A REPLY