उत्तराखंड

एनजीटी ने मां मनसा देवी क्षेत्र से अतिक्रमण हटाने के दिए निर्देश

हरिद्वार : राष्ट्रीय हरित अधिकरण (एनजीटी) ने जिला प्रशासन को मां मनसा देवी मंदिर के आसपास से अतिक्रमण हटाने के निर्देश दिए हैं। हरिद्वार निवासी वासु सिंह की ओर से दायर याचिका पर सुनवाई करते हुए अधिकरण की बेंच ने यह निर्देश दिया है।

कूड़ा फेंके जाने से प्रदूषित हो रही क्षेत्र की आबोहवा

उत्तराखंड निवासी वासु सिंह ने राष्ट्रीय हरित अधिकरण में दायर याचिका में बताया कि मां मनसा देवी मंदिर के आसपास दुकानदारों ने बड़े पैमाने पर अवैध कब्जा कर रखा है। कूड़ा फेंके जाने से क्षेत्र की आबोहवा प्रदूषित हो रही है। चूंकि यह क्षेत्र राजाजी टाइगर रिजर्व के समीप है। इससे वन्य जीवों के स्वास्थ्य पर भी प्रतिकूल प्रभाव पड़ रहा है।

सुनवाई से पहले क्षेत्र को अतिक्रमणमुक्त कराने के निर्देश

जिला प्रशासन के अलावा पार्क प्रशासन और प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (पीसीबी) को इस पर प्रभावी अंकुश लगाने की आवश्यकता है। एनजीटी ने इसे गंभीरता से लेते हुए जस्टिस आदर्श कुमार गोयल की अध्यक्षता में बेंच गठित करने के निर्देश दिए। याचिका पर सुनवाई करते हुए बेंच ने इसे गंभीर मानते हुए जिला प्रशासन को अगली सुनवाई से पहले तक इस क्षेत्र को अतिक्रमणमुक्त कराने के निर्देश दिए हैं।

पार्क प्रशासन और प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड को भी आड़े हाथों लिया

बेंच ने इस मामले में पार्क प्रशासन और प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड को भी आड़े हाथों लिया है। मंदिर क्षेत्र को अतिक्रमणमुक्त कराए जाने तक लगातार अभियान चलाने को निर्देशित किया है।

सिटी मजिस्ट्रेट अवधेश कुमार सिंह ने बताया कि डेढ़ महीने पहले इस मामले में हुई बैठक में राजाजी टाइगर रिजर्व के डिप्टी डायरेक्टर अमित कुंवर को अतिक्रमण हटवाने के निर्देश दिए गए थे। इस क्रम में कार्रवाई जारी है। हालांकि एनजीटी के हालिया निर्णय की अभी पूरी जानकारी नहीं है। आदेश मिलने पर अग्रिम कार्रवाई की जाएगी।

Leave a Response