देश/प्रदेश

गौचर से कर्णप्रयाग के मध्य राष्ट्रीय राजमार्ग की स्थिति खस्ताहाल

गौचर: गौचर से कर्णप्रयाग के मध्य लगातार वीआइपी मूवमेंट होने के बाद भी राष्ट्रीय राजमार्ग की स्थिति खस्ताहाल होने से निर्माणदायी संस्था पर सवाल उठ रहे हैं। ऋषिकेश-बदरीनाथ राष्ट्रीय राजमार्ग को जब से सीमा सड़क संगठन से हटाकर राष्ट्रीय राजमार्ग विंग को सौंपा गया है तब से मार्ग की हालत खराब होने लगी। इससे छोटे वाहन स्वामियों को परेशानी झेलनी पड़ रही है।

अब गैरसैंण विधानसभा सत्र के लिए गौचर हवाई पट्टी में उतरने के बाद मंत्री व वीआइपी सड़क मार्ग से गैरसैंण पहुंचेंगे। जिसको देखते हुए जिलाधिकारी चमोली स्वाति एस भदौरिया ने गौचर-कर्णप्रयाग तक मार्ग को दुरुस्त करने का आदेश एनएच अधिकारियों को दिए हैं।

देखरेख के अभाव में मार्ग पर जगह-जगह गड्ढे हो गए हैं। सड़क किनारे नालियां न होने से पानी सड़क पर बहता है। हैरत की बात है कि समय-समय पर गौचर हवाई पट्टी पर हवाई सेवा से उतर कर माननीय सड़क मार्ग से आगे का सफर तय करते हैं। लेकिन, कर्णप्रयाग-चमोली तक मार्ग में गड्ढे व जमा मलबे को बीते दो साल से ठीक नहीं किया गया है। जिससे मार्ग पर दुर्घटनाओं का ग्राफ भी बढ़ रहा है। चट्टवापीपल, गलनाऊं, पंचपुलिया आदि स्थानों पर सड़क तालाब में तब्दील होने से हल्के वाहनों का आसानी से निकलना खतरे से खाली नहीं है, जबकि आला अधिकारियों के साथ मंत्रियों का लगातार आवागमन होने के बाद भी सड़क की दयनीय स्थिति में सुधार नही हो सका है।

विशेष