देश/प्रदेश

कोरोना वायरस के खौफ से चम्पावत में माँ -बाप अपने बेटी को भिटौली देने भी नहीं जा रहे

लोहाघाट : कोरोना वायरस का खौफ जिले में इस कदर घर कर गया है कि मा बाप अपने बेटी को भिटौली देने में भी संकोच कर रहे हैं। कई ऐसे मा बाप हैं जो चाहते हैं कि वे और उनकी बेटी का परिवार संक्रमण से बचा रहे जिसके लिए वे भिटौली को कुछ दिन बाद देने की बात कर रहे हैं। उनका कहना है कि अधिकाश लोगों में इन दिनों बुखार और खासी के लक्षण सामने आ रहे हैं उन्हें अंदेशा है कि कहीं यह लक्षण कोरोना के न हों। लोहाघाट ब्लॉक के सुई ग्राम सभा की 68 वर्षीय बुजुर्ग कलावती देवी ने बताया कि भिटौला देने हल्द्वानी जाना था इन दिनों कोरोना बीमारी के बारे में चर्चा हो रही है। बताया कि बीमारी कम होने के बाद वह अपनी बेटी को भिटौला देने जाएगी।

54 वर्षीय पार्वती देवी ने कहा कि आजकल अधिकांश लोग खांसी और बुखार से पीड़ित हैं। वह अपनी बेटी को भिटौला देने कोरोना के डर से नहीं जा रही है। वह कुछ दिन बाद हरी बेटी के घर जाएगी। कैलाश सिंह, उमेद राम, हरीश प्रसाद ने बताया कि कोरोना का वायरस कहां तथा किस वक्त फैल जाए यह डर सता रहा है। वह किसी भी तरह का जोखिम मोल लेना नहीं चाहते, लिहाजा उन्होंने अपने बेटी को भिटौला देने का कार्यक्रम 15 दिन पीछे कर दिया है।

कोरोना वायरस को लेकर बाजारों में भी सन्नाटा पसरा हुआ है। कोरोना से नगर के व्यापार में भी 50 प्रतिशत फर्क पड़ गया है। होटलों में भी सुनसानी नजर आ रही है। रेस्टोरेंट व्यवसायी संजय राय व दीपक का कहना है कि कोरोना के डर से अधिकांश लोग दुकानों में नहीं आ रहे हैं।

कोरोना वायरस को लेकर थानाध्यक्ष मनीष खत्री ने पुलिस कर्मियों से अपनी दिनचर्या में सावधानी बरतने की अपील की है। उन्होंने फिलहाल पब्लिक गेदरिग न करने, आवश्यकता पड़ने पर सफर करने, भीड़ भाड़ वाले स्थानों पर न जाने व स्वास्थ्य विभाग की एडवाइजरी का पालन करने को कहा है।

विशेष