देश/प्रदेश

कोटद्वार में अंगीठी के धुंए से दम घुटने के कारण मां-बेटी की मौत

कोटद्वार: बीरोंखाल ब्लॉक में देवोली गांव में रविवार की रात को अंगीठी के धुएं से दम घुटने से मां और तीन साल के मासूम की मौत हो गयी. परिवार के तीन अन्य सदस्य भी अंगीठी के धुंए से अचेत हो गए. जिन्हें आस-पास के लोगों द्वारा सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र बीरोंखाल में भर्ती किया.

पौड़ी जिले के मृतक के भाई ने बताया कि उनकी बहन रूपा देवी (25)पत्नी राजेंद्र निवासी धनोरा बुलंदशहर यूपी अपने पति और दो बच्चों के साथ मायके आई हुई थी.

 रविवार की रात सभी खाना खाकर सो गए. लेकिन क्षेत्र में बर्फबारी के चलते काफी ठंड पड़ रही थी. वहीं, ठंड से बचने के लिए उन्होंने अंगीठी जलाई हुई थी. लेकिन ठंड ज्यादा होने के कारण दरवाजे और खिड़कियां बंद कर सो गए. जिस कमरे में अंगीठी रखी हुई थी.

उस कमरे में रूपा, 3 साल की आरुही, तीन माह की आरुषि और मां गुड्डी देवी सोई हुई थी. मृतका के भाई शोभित कुमार जब सुबह उठा तो उसकी बहन रूपा देवी और 3 साल की आरुषि उठाना चाहा तो उन्होंने कोई हरकत नहीं की. जिसके बाद घटना की जानकारी आस-पड़ोस के लोगों को दी. आनन-फानन में

जिन्हें 108 की मदद से सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र बीरोंखाल ले जाया गया. जहां डॉक्टरों ने रूपा देवी और आरुही को मृत घोषित कर दिया. साथ ही शोभित और 3 माह की आरुषि और गुड्डी देवी को प्राथमिक उपचार के बाद छुट्टी दे दी गई.

वहीं राजस्व उपनिरीक्षक विनोद रावत ने बताया कि घटना 15 दिसंबर की रात की है और घटना का पता 16 दिसंबर सोमवार को पता चला.

घटना में रूपा देवी और 3 साल की आरुही की मौत हो गई. साथ ही अन्य लोगों को उपचार के बाद छुट्टी दे दी गई है. जिसके बाद जिलाधिकारी के आदेश पर मृतकों के शवों का पोस्टमार्टम कर परिजनों को सौंप दिया गया.

विशेष