देश/प्रदेश

टीकाकरण से छूटे बच्चों के लिए मिशन इंद्रधनुष दो दिसंबर से

देहरादून :  राज्य में नियमित टीकाकरण से छूटे बच्चों व गर्भवती महिलाओं के टीकाकरण के लिए आगामी दो दिसंबर से अगले चार माह तक प्रत्येक माह के पहले सोमवार से इंद्रधनुष अभियान-दो चलाया जाएगा।

यह अभियान सोमवार से सप्ताहभर तक चलेगा। इस विशेष टीकाकरण अभियान के अंतर्गत क्रमश: दो दिसंबर, छह जनवरी, तीन फरवरी व दो मार्च की तिथि को यह गतिविधि आरंभ होगी। छूटे बच्चों व गर्भवती महिलाओं की पहचान व चिह्नीकरण का कार्य कर लिया गया है।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने सघन मिशन इंद्रधनुष अभियान-दो के सफल संचालन के लिए देश के राज्यों/केंद्र शासित प्रदेशों के स्वास्थ्य मंत्री, स्वास्थ्य सचिव, मिशन निदेशक व स्वास्थ्य महानिदेशकों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग कर विस्तृत चर्चा की।

स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि देश में कोई भी बच्चा वैक्सीन द्वारा समाप्त किए जाने वाले रोगों के कारण बीमार नहीं पड़ना चाहिए। यह निर्देश दिए कि यदि नियमित टीकाकरण के दौरान कोई भी बच्चा या गर्भवती महिला छूट रही है तो हमें अपनी स्वास्थ्य व्यवस्थाओं को अधिक मजबूत करने की आवश्यकता है।

कहा कि टीकाकरण से छूटे हुए बच्चों को इस अभियान के तहत यह एहसास होना चाहिए कि सरकार उनके स्वास्थ्य के प्रति संवेदनशील है।

अभियान में सांसदों व विधायकों को भी शामिल करने की बात उन्होंने कही। बता दें, देश के राज्यों/केंद्र शासित प्रदेशों के अंतर्गत 272 जनपदों को सघन मिशन इंद्रधनुष अभियान-दो के लिए चयनित किया गया है।

जिसके तहत उत्तराखंड के 10 जनपदों में भी यह अभियान चलाया जाएगा। जनपद देहरादून, नैनीताल व बागेश्वर में यह अभियान संचालित नहीं होगा।

उत्तराखंड की ओर से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग में प्रभारी स्वास्थ्य सचिव डॉ. पंकज कुमार पांडेय, एनएचएम के मिशन निदेशक युगल किशोर पंत, स्वास्थ्य महानिदेशक डॉ. अमिता उप्रेती, निदेशक डॉ. अंजली नौटियाल, राज्य प्रतिरक्षण अधिकारी डॉ. मीनाक्षी उनियाल, प्रभारी अधिकारी एनएचएम डॉ. कुलदीप मार्तोलिया, राज्य आइईसी अधिकारी जेसी पांडेय आदि उपस्थित रहे।

अभियान की सभी तैयारियां पूरी

प्रभारी सचिव स्वास्थ्य डॉ. पंकज कुमार पांडेय ने बताया कि राज्य में सघन मिशन इंद्रधनुष अभियान-दो के सफल आयोजन की सभी तैयारियां पूरी कर ली गई हैं।

सभी 10 जनपदों के स्तर पर छूटे हुए बच्चों की पहचान भी की जा चुकी है। मिशन निदेशक युगल किशोर पंत ने बताया कि विशेष टीकाकरण सत्रों के लिए वैक्सीन आदि की आपूर्ति जनपदों को की जा चुकी है और सहयोग के लिए 23 नवंबर को स्टेट टास्क फोर्स की बैठक बुलाई जाएगी।

सभी दस जनपदों में टीकाकरण अभियान की निगरानी के लिए स्वास्थ्य महानिदेशक के स्तर से मॉनीटर/पर्यवेक्षक नियुक्त कर दिए गए हैं।

स्वास्थ्य महानिदेशक डॉ. अमिता उप्रेती ने बताया कि दस जनपदों में टीकाकरण के लिए शिशुओं की कुल संख्या 2,67,794 है। इन्हीं बच्चों में से छूटे हुए बच्चों को चिह्नित कर विशेष टीकाकरण सत्रों के माध्यम से आच्छादित किया जाएगा।

विशेष