देश/प्रदेश

कई ग्राम प्रधान जीत के बाद भी नहीं ले सके शपथ

[सुभाष पिमोली] चमोली :  त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव 2019 में जीते ग्राम प्रधानों ने आज थराली ब्लॉक सभागार में प्रधान पद की शपथ ली।

खंड विकास अधिकारी थराली ने नवनिर्वाचित ग्राम प्रधानों ओर वार्ड मेम्बरों को शपथ दिलवाई आपको बता देकि थराली विकासखण्ड के कुल 48 ग्राम पंचायतों में से महज 13 ग्राम पंचायतें ही फिलहाल अस्तित्व में आ सकी हैं।

शेष 35 ग्राम पंचायतों में वार्ड सदस्यों की संख्या 2/3 न होने की वजह से ग्राम पंचायत गठित न हो सकी इस लिहाज से आज थराली ब्लॉक सभागार में कुल 13 ग्राम प्रधानों और 44 वार्ड सदस्यों ने अपने पद की शपथ ली ।

थराली विकासखण्ड में 7 ग्राम पंचायतें ऐसी भी हैं जिनमे एक भी वार्ड सदस्य का निर्वाचन नही हो पाया है और ये ग्राम पंचायते ,मेटा, चौण्डा ,धारबारम,भटियाणा, कुलसारी,झिंझोली,देवलकोट,औऱ सुनला ग्राम पंचायतें हैं जहां वार्ड सदस्य संख्या शून्य है।

वहीं देवाल विकासखण्ड में भी कुल 46 ग्राम पंचायतों के सापेक्ष महज 18 ग्राम पंचायतों का ही गठन हो सका जिनके 18 ग्राम प्रधानों ने अपने पद की शपथ ली , जबकि 2 ग्राम पंचायतों में प्रधान पद पर कोई चुनाव नही हो सका था।

,इसी तरह नारायणबगड़ विकासखण्ड की बात करे तो यहां की कुल 79 ग्राम पंचायतों में से 1 में आरक्षण की स्थिति स्पष्ट न हो पाने की वजह से चुनाव नही हो सका ।

जबकि शेष 78 ग्राम पंचायतों में से महज 17 ही अपने अस्तित्व में आ सकी इस तरह यहां भी केवल 17 ग्राम प्रधान ही शपथ ले सके शेष 61 ग्राम प्रधान जीत के बावजूद कम वार्ड सदस्य संख्या के चलते शपथ लेने से वंचित रहे थराली, देवाल, नारायणबगड़ तीनो विकासखण्डों की बात करें तो कुल 173 ग्राम पंचायतों में से महज 48 ग्राम पंचायतें अस्तित्व में आ सकी शेष 125 ग्राम पंचायतें ऐसी रही जहां प्रधान तो जीत गए लेकिन ग्राम पंचायतों का गठन कम वार्ड सदस्यों की संख्या के चलते नहीं हो सका ,जिसके चलते इन तीनो विकासखण्डों में लगभग 75 फीसदी से अधिक जीते हुए ग्राम प्रधान शपथ नही ले सके ,हालांकि इन शेष ग्राम पंचायतों में वार्ड सदस्यों के दोबारा चुनाव होने हैं जिसके बाद वार्ड सदस्यों के कोरम पूरा होने के बाद ये ग्राम पंचायतें गठित हो सकेंगी ।

खंड विकास अधिकारी थराली देवीदत्त उनियाल ने बताया कि थराली ब्लॉक सभागार में कुल 13 ग्राम प्रधानों और 44 वार्ड सदस्यों ने शपथ ग्रहण की है उन्होंने कहा कि शेष 35 ग्राम पंचायतों में वार्ड सदस्यों का कोरम पूरा न हो पाने की वजह से ग्राम पंचायतों का गठन नही हो सका जिसके चलते इन ग्राम पंचायतों में प्रधानों की शपथ नहीं हो पाई है ।

वहीं जीते हुए ग्राम प्रधानों ने शपथ ग्रहण के बाद मीडिया से बातचीत में कहा कि उनकी पहली प्राथमिकता होगी गांव में बुनियादी सुविधाओं को पूरा करना और गांव में पेयजल,बिजली ,सड़क पहुंचाना इसके साथ ही उन्होंने कहा कि अपनी ग्राम पंचायत को शत प्रतिशत शिक्षित बनाना भी उनका लक्ष्य होगा।

विशेष