पिथौरागढ़

उच्च हिमालयी क्षेत्रों में इंटरनेट सेवा नहीं होने के कारण मनरेगा के कार्यों पर ब्रेक

पिथौरागढ़: धारचूला से कांग्रेसी विधायक हरीश धामी ने पिथौरागढ़ डीएम से मिलकर विधानसभा में मनरेगा के काम शुरू कराने की मांग की है. विधायक का कहना है कि जब से जियो टैगिंग शुरू हुई है, उनके क्षेत्र में कोई काम नहीं हो पा रहा है. जियो टैगिंग इंटरनेट के जरिए होती है, लेकिन बॉर्डर की विधानसभा में संचार सेवा खस्ताहाल है. धामी ने कहा कि कोरोना संकट के बाद केंद्र सरकार मनरेगा के तहत रोजगार देने की बात कर रही है. जिसका लाभ उनके क्षेत्र के लोग नहीं उठा पा रहे हैं.

उच्च हिमालयी क्षेत्रों में इंटरनेट सेवा नहीं होने के कारण मनरेगा के कार्यों पर ब्रेक लग गया है. बुधवार को धारचूला विधायक हरीश धामी ने दारमा और व्यास घाटी में मनरेगा कार्यों में आ रही समस्या को लेकर डीएम के माध्यम से सीएम को पत्र भेजा. धामी ने कहा कि दारमा और व्यास घाटी के मूल ग्रामों में मनरेगा के कार्य चल रहे हैं. साल 2017-18 से घाटी के मूल ग्रामों में त्रिस्तरीय जीओ टैगिंग न होने के कारण मनरेगा के कार्यों में दिक्कत आ रही है. धामी ने इन क्षेत्रों में वी सेट लगाए जाने की मांग की है. साथ ही धामी ने अपने विधानसभा क्षेत्र के संचारविहीन इलाकों में मोबाइल टावर लगाने की मांग की है. ताकि सीमांत क्षेत्र में ऑनलाइन पढ़ाई के साथ ही अन्य जरूरी काम भी हो सके.