राष्ट्रीय

मकर संक्राति को होगी राम मंदिर में राम लला के प्रतिमा की प्राण प्रतिष्ठा

उत्तर प्रदेश के अयोध्या में राम जन्मभूमि परिसर में भव्य मंदिर का निर्माण कार्य तेजी से किया जा रहा है और इसके दिसंबर 2023 तक बनकर तैयार हो जाने का अनुमान है. साथ ही मंदिर में जनवरी 2024 (मकर संक्राति) तक राम लला की प्रतिमा की प्राण प्रतिष्ठा हो जाने की संभावना है. वहीं राम मंदिर के निर्माण में 1800 करोड़ रुपए खर्च होने का अनुमान जताया जा रहा है. बता दें कि मंदिर निर्माण के लिए गठित संस्था श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट ने यह जानकारी दी.

दरअसल राम मंदिर तैयार होने के साथ ही लाखों की संख्या में भक्त अयोध्या पहुंचेंगे. इसको लेकर भी प्रशासन ने अभी से तैयारी शुरू कर दी है. अयोध्या में यात्री और पर्यटकों के लिए एयरपोर्ट का निर्माण चल रहा है. इसके अलावा रेलवे स्टेशन को भी भव्य बनाया जा रहा है. साथ ही अयोध्या की रेलवे कनेक्टिवटी मजबूत करने के लिए डबल लाइन का कार्य युद्ध स्तर पर जारी है. वहीं शहर में 6 पार्किंग बनाई जा रही है, जहां गाड़ियों को खड़ा करने के बाद श्रद्धालु इलेक्ट्रिक वाहन से ही अयोध्या में प्रवेश करेंगे.

श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट की बैठक

वहीं सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर राम मंदिर निर्माण के लिए गठित किए गए ट्रस्ट ने लंबी बैठक के बाद ट्रस्ट के नियम और कायदों को अनुमोदन दिया. ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय ने बताया कि फैजाबाद सर्किट हाउस में आयोजित इस बैठक में ट्रस्ट के सदस्यों ने सर्वसम्मति से यह फैसला किया कि राम जन्मभूमि परिसर में हिंदू धर्म से जुड़ी महान विभूतियों और साधु-संतों की प्रतिमाओं को भी स्थान दिया जाएगा.

ट्रस्ट से जुड़े बाइलॉज को दिया अंतिम रूप

चंपत राय ने बताया कि विशेषज्ञों की रिपोर्ट के आधार पर लगाए गए ट्रस्ट के अनुमान के मुताबिक राम मंदिर निर्माण पर 1800 करोड़ रुपए खर्च होंगे. वहीं लंबे अरसे तक सोच विचार और राम मंदिर निर्माण से जुड़े सभी लोगों के तमाम सुझावों पर गौर करते हुए बैठक में ट्रस्ट से जुड़े नियम कायदों और बाइलॉज को अंतिम रूप दिया गया.

Leave a Response