विविध

बांदा जेल में बंद माफिया डॉन मुख़्तार अंसारी पर का पहरा हुआ और सख्त

लखनऊ. बांदा जेल में बंद पूर्व विधायक और माफिया डॉन मुख़्तार अंसारी पर पहरा और सख्त किया जाएगा. डीआईजी जेल की रिपोर्ट के बाद जेल में मुख्तार अंसारी के बैरक की निगरानी और बढ़ा दी गई है. हर महीने डिप्टी जेलर समेत 15 जेलकर्मियों को बदला जाएगा. हर महीने दूसरे जेल से डिप्टी जेलर समेत अन्य कर्मियों की ड्यूटी लगाई जाएगी. इतना ही नहीं मुख़्तार की बैरेक के पास 20 सीसीटीवी कैमरे बढ़ाए जाएंगे, कैमरे ख़राब होते ही उन्हें तुरंत बदला जाएगा.

इसके अलावा मुख़्तार के बैरक 24 घंटे निगरानी जेल मुख्यालय लखनऊ में बनी डिजिटल वीडियो वॉल से करने के भी निर्देश दिए गए हैं. साथ ही कहा गया है कि मुख्तार अंसारी के आसपास तैनात स्टाफ को बॉडी वॉर्न कैमरे पहनने होंगे. गौरतलब है कि पिछले दिनों जिलाधिकारी और पुलिस अधीक्षक ने बांदा जेल में छापेमारी की थी. छापेमारी के दौरान जेल में कई अनियमितताएं सामने आई थीं. इतना ही नहीं डिप्टी जेलर ने डीएम और एसपी के साथ अभद्रता भी की थी. जिसके बाद डिप्टी जेलर को सस्पेंड कर दिया गया था.

डीएम और एसपी ने की थी छापेमारी
डीएम अनुराग पटेल ने जेल में चेकिंग के दौरान मिली अनियमितताओं को लेकर शाशन को पत्र लिख कर जानकारी दी थी. उनकी शिकायत का संज्ञान देते हुए जेल पुलिस महानिदेशक/महानिरीक्षक कारागार आनंद कुमार ने बांदा जेल के उप कारापाल (डिप्टी जेलर) वीरेशवर प्रताप सिंह को निलंबित कर दिया और उन्हें जांच होने तक मुख्यालय में रहने के आदेश दिए.

मुख़्तार से नरमी बरतने के आरोप में डिप्टी जेलर हुए थे सस्पेंड
आरोप है कि डिप्टी जेलर वीरेशवर प्रताप सिंह मुख्तार अंसारी के साथ जेल में नरमी बरत रहे थे. डिप्टी जेलर मुख्तार को जेल के अंदर कुछ खास सुविधाएं मुहैया करवा रहे थे. जिसके बाद मामले की जांच डीआईजी जेल को सौंपी गई थी. अब उसी रिपोर्ट के आधार पर मुख्तार पर पहरा बढ़ा दिया गया है.

Leave a Response