देश/प्रदेश

पौड़ी के ल्वाली में झील निर्माण से पहले की विवादों में फंसे विधायक

पौड़ी: गगवाड़स्यूं घाटी में बनने वाली ल्वाली झील निर्माण से पहले की विवादों में आ गई है। झील के लिए विधायक की ओर से किए गए भूमि पूजन पर कांग्रेस कार्यकर्ताओं का कहना है कि पिछले वर्ष जून माह में मुख्यमंत्री ने भी यहां भूमि पूजन किया था। एक ही कार्य के लिए दो -दो बार भूमि पूजन कर भाजपा नेता सस्ती लोकप्रियता हासिल करना चाहते हैं। वहीं विधायक पौड़ी ने कांग्रेस कार्यकर्ताओं को अपना ज्ञान सुधारने की नसीहत दी है। विधायक ने कहा कि मुख्यमंत्री ने शिलान्यास किया था। भूमि पूजन कार्य शुरू होने के दिन से होता है।

पौड़ी की गगवाड़स्यूं घाटी के ल्वाली में झील का निर्माण किया जाना है। यहां लच्छीवाला की तर्ज पर मल्टी लेवल पाउंड बनाए जाने हैं। झील निर्माण के लिए बीते सात मार्च को पौड़ी विधायक मुकेश कोली ने यहां भूमि पूजन किया था। जिस पर कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने सवाल उठाए हैं। कांग्रेस प्रदेश कार्यकारिणी सदस्य व पूर्व विधानसभा प्रत्याशी नवल किशोर ने कहा है कि बीते वर्ष जून माह में मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र रावत ने यहां भूमि पूजन किया था। इस दौरान मुख्यमंत्री ने झील निर्माण कार्य एक वर्ष के भीतर पूरा किए जाने के निर्देश भी दिए थे, लेकिन एक वर्ष से अधिक समय बीत जाने के बाद निर्माण कार्य अभी तक शुरू नहीं हुआ है।

नवल किशोर ने कहा कि विधायक पौड़ी सोशल मीडिया पर विकास कार्यों को लेकर बड़े-बड़े दावे कर रहे हैं। लेकिन हकीकत में विकास कार्य ठप पड़े हुए हैं। वहीं पौड़ी विधायक मुकेश कोली ने कांग्रेस नेता नवल किशोर को अपना ज्ञान सुधारने की नसीहत दी है। कोली ने कहा कि मुख्यमंत्री ने योजना का शिलान्यास किया था। जबकि उनके द्वारा भूमि पूजन किया गया है। जिस दिन कार्य शुरू होता है भूमि पूजन उसी दिन होता है।

विशेष