राष्ट्रीय

Paytm के शेयरों में गिरावट से निवेशकों को हुआ 10 हजार करोड़ का नुकसान

देश की जानी मानी कंपनी पेटीएम की पेरेंट कंपनी One97 कम्युनिकेशंस के शेयर में भारी गिरावट आई है. एक्सपर्ट्स का कहना है कि एंकर इन्वेस्टर्स का लॉक इन पीरियड बुधवार को एक्सपायर हो गया. अगर आसान शब्दों में कहें तो बड़े निवेशक अब अपने शेयरों को बेच सकते है. इसीलिए शेयर में गिरावट आई है. बुधवार को  शेयर 13 फीसदी लुढ़क गया. इस दौरान निवेशकों को 10 हजार करोड़ रुपये का नुकसान हुआ है.

पेटीएम में एंकर इन्वेस्टर्स के पास 5.9 फीसदी यानी लगभग 3.83 करोड़ शेयर है. 2021 में अक्टूबर तक पब्लिक के बीच कंपनी के करीब 76 फीसदी शेयर ट्रेडिंग के लिए उपलब्ध थे. एंकर लॉक-इन ओपनिंग डेट यानी आज इस शेयर में बिकवाली का दबाव देखने को मिला.

इससे पहले लिस्टिंग वाले दिन यानी 22 नवंबर को पेटीएम के शेयर में 27 फीसदी की गिरावट आई थी. यह स्टॉक 2150 रुपये के अपने इश्यू प्राइस से 9 फीसदी डिस्काउंट पर लिस्ट हुआ था और शुरुआती 2 कारोबारी दिनों में इसका करीब 40 फीसदी मार्केट कैप साफ हो गया था.पेटीएम का आईपीओ भारत के शेयर बाजार के इतिहास का सबसे बड़ा आईपीओ था. कंपनी ने आईपीओ के जरिए 18300 करोड़ रुपये जुटाए. इसके बाद एंकर इन्वेस्टर्स के लिए लॉकइन पीरियड तय किया गया था.

अब क्या करें निवेशक

एस्कॉर्ट सिक्योरिटी के रिसर्च हेड आसिफ इकबाल का कहना है कि शेयर में गिरावट अगले कुछ दिन और जारी रह सकती है. मौजूदा निवेशकों को शेयर में बने रहना चाहिए. हर गिरावट पर शेयर को खरीदने की सलाह है.

आसिफ कहते हैं कि कंपनी के साथ सबसे बड़ी परेशानी मुनाफे को लेकर है. अगर शेयर का भाव गिरकर 1000 रुपये के नीचे आता है तो शेयर में निवेश बेहतर है.

पेटीएम की आमदनी

कंपनी की ओर से जारी जानकारी के मुताबिक, जुलाई-सितंबर के दौरान कंपनी की आमदनी 64 फीसदी बढ़कर 1090 करोड़ रुपये हो गई है.

पेटीएम ने लिस्ट होने के बाद पहली बार सार्वजनिक रूप से अपनी कमाई की जानकारी दी. एक साल पहले इसी अवधि में कंपनी को 437 करोड़ की तुलना में 473 करोड़ का घाटा हुआय एक साल पहले के 1,170 करोड़ से खर्च बढ़कर लगभग 1,600 करोड़ हो गया.

Leave a Response