Latest Newsउम्मीदें

जागेश्वर धाम में मनवांछित इच्छा पूर्ति के लिए लोग करवा रहे है तांत्रिक अनुष्ठान

अल्मोड़ा : जागेश्वर क्षेत्र में लगातार हो रहे तांत्रिक अनुष्ठान चर्चा का विषय बने हुए हैं। अपनी मनवांछित इच्छा पूरी के लिए बाहरी क्षेत्रों से आए लोग यहां तांत्रिक अनुष्ठान करवा रहे है। फिलहाल पुलिस को इस बात की भनक तक नहीं है।

प्रसिद्ध शिवधाम जागेश्वर क्षेत्र इस बार अपने तांत्रिक अनुष्ठानों के लिए चर्चा में है। स्थानीय लोगों ने बताया एक बंगाली तांत्रिक ने 11 दिन तक यहां पर तांत्रिक अनुष्ठान किया है। इस बंगाली तांत्रिक को दक्षिणा के तौर पर भारी-भरकम रकम तो दी है, इसके अलावा हरिद्वार में रहने वाली उसकी एक शिष्य को एक मकान भी उपहार के तौर पर दिलाया है। तांत्रिक की इस शिष्या का भाई तांत्रिक के साथ ही रहता है। एक और अनुष्ठान उत्तराखंड के बाहर यूपी के मिर्जापुर में कराए जाने की चर्चा है। मिर्जापुर के प्रसिद्ध विंध्याचल माता के मंदिर में तांत्रिक अनुष्ठान किया जाना बताया जा रहा है।

स्थानीय जानकारों ने कहा कि क्षेत्र में कोई भी तंत्र विद्या का जानकार नहीं है। जो भी आ रहे हैं, बाहरी क्षेत्रों से आ रहे हैं। इन सब पर मंदिर कमेटी और स्थानीय लोगों ने नजर रखनी चाहिए और अगर कोई ऐसा अनुष्ठान हो रहा है तो उसकी जानकारी प्रशासन को दी जानी चाहिए। ताकि किसी प्रकार का अंधविश्वास न फैल पाए।

कभी कापालिक, अघोरपंथी करते थे साधना

जागेश्वर कुमाऊं के चंद राजाओं का शमशान था और यहां तंत्रवादी कापालिक तथा अघोरपंथी शव साधना करते थे। जागेश्वर के जगन्नाथ मंदिर के द्वार पर शिव की जो मूर्ति है, उसके हाथ में एक लकुट के सिरे पर नर कपाल बना हुआ है। जागेश्वर लकुलीश सम्प्रदाय के लोगों का शिव मंदिर है। लकुलीश शिव को समस्त सृष्टि का कारण मानते हैं। उनके अनुसार मनुष्य रूपी पशु 23 पाशों (बंधनों) में जकड़ा है। बंधन मुक्ति के लिए उसे व्रतों का पालन करना पड़ता है और द्वारों से गुजरना पड़ता है।

पहाड़ में अब ना तांत्रिक रहे, ना तंत्र विद्या। यह एक तरह से महिलाओं के शोषण और किसी परेशान व्यक्ति से एक प्रकार की धन की लूट है। सभी बाहरी क्षेत्र के लोग बताये जा रहे हैं।

– गोविंद गोपाल, पूर्व उपाध्यक्ष, जागेश्वर मंदिर कमेटी

जागेश्वर मंदिर में किसी भी प्रकार के तांत्रिक अनुष्ठान नहीं होते हैं। अन्य आस-पास किसी क्षेत्र में होते होंगे, तो इसकी जानकारी फिलहाल नहीं है।

– हेमंत भट्ट, प्रधान पुजारी जागेश्वर

इस तरह की कोई जानकारी फिलहाल मेरे पास नहीं है। पता करवाएंगे।

– प्रदीप कुमार राय, एसएसपी, अल्मोड़ा

Leave a Response