देश/प्रदेश

बागेश्वर जिला पंचायत में तीन लोगों की आउटसोíसंग से नियम विरुद्ध नियुक्ति

बागेश्वर: जिला पंचायत में तीन लोगों की आउटसोíसंग से नियमविरुद्ध नियुक्ति का मामला तूल पकड़ने लगा है। कांग्रेस ने जिला पंचायत अध्यक्ष बसंती देव पर धांधली का आरोप लगाते हुए पूरे मामले की जांच कर उन पर आपराधिक मुकदमा दर्ज करने की मांग कर दी है।

पर्यटन आवास गृह में आयोजित पत्रकार वार्ता में पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष हरीश ऐठानी ने कहा कि बिना बोर्ड प्रस्ताव के जिला पंचायत अध्यक्ष ने नियमों विरुद्ध कार्य करते हुए एक कनिष्ठ अभियंता व दो कनिष्ठ सहायक पदों पर नियुक्ति दे दी है। आरोप लगाया कि अपने सबंधियों व रिश्तेदारों को नियुक्तियां दी गई हैं। उन्होंने कहा कि तीनों नियुक्तियां आउटसोíसंग से ऊधमसिंहनगर जिले की पर्यावरण एंव जनकल्याण समिति के माध्यम से हुई हैं। 30 जनवरी को अपर मुख्य अधिकारी ने नियुक्ति के संबंध में पंचायत विभाग से पत्राचार किया। 27 फरवरी को नियुक्ति करने संबंधी पत्र जिला पंचायत के अपर मुख्य अधिकारी को मिला।

ऐठानी ने कहा कि इस संबंध में न तो बोर्ड बैठक हुई न ही कोई प्रस्ताव पारित हुआ है। किसी भी जिला पंचायत सदस्य को इसकी जानकारी नही है। जिला पंचायत में पहले से ही दो कनिष्ठ अभियंता कार्य कर रहे हैं। स्टाफिग पैटर्न के नियमों का भी उल्लंघन किया है। उन्होंने अपने परिवार के लोगों को लाभ देने के लिए गलत तरीके से नियुक्तियां दी हैं। इसलिए पूरे मामले की जांच की जानी चाहिए। कहा कि अगर दोषियों के खिलाफ कार्रवाई नही होती तो फिर सड़क पर उतरकर आंदोलन के लिए बाध्य होना पड़ेगा। इस अवसर पर पूर्व विधायक ललित फस्र्वाण, नगर अध्यक्ष धीरज कोरंगा, राजेंद्र टंगड़यिा आदि मौजूद थे।

पंजीकृत ठेकेदार है जिपं अध्यक्ष

जिला पंचायत सदस्य शामा हरीश ऐठानी ने कहा कि जिला पंचायत अध्यक्ष बसंती देव पंजीकृत ठेकेदार हैं। वह अधिकारियों पर दबाव में डालकर कार्य करवा रही हैं। चुना हुआ प्रतिनिधि ठेकेदारी का कार्य कर ही नहीं सकता। वह जिस जगह पर निर्वाचित हुई हैं, वहीं पर उनका पंजीकरण भी है। जो नियमों के विरुद्ध है।

मेरे माध्यम से कोई नियुक्ति नहीं हुई है। जो भी नियुक्ति हुई है वह निदेशालय स्तर से हुई है। अगर किसी को कोई शंका है तो वह जांच करा ले। मैं जांच को तैयार हूं। परिवारवाद का आरोप बेबुनियाद है।

-बसंती देव, जिला पंचायत अध्यक्ष, बागेश्वर

विशेष