विविध

दाऊद इब्राहिम पर शिकंजा कसने के लिए गृह मंत्रालय ने बनाया नया प्लान

दाऊद इब्राहिम (dawood ibrahim) पर शिकंजा कसने की जिम्मेदारी गृह मंत्रालय ने अब NIA को दे दी है. नेशनल इंवेस्टिगेशन एजेंसी (NIA) आतंक पर जांच करने वाली देश की सबसे बड़ी एजेंसी है. बता दें कि ऐसा पहली बार हो रहा है जब दाऊद इब्राहिम पर शिकंजा कसने के लिए NIA को बड़े स्तर पर लगाया गया है.

अबतक ईडी दाऊद से जुड़े मामलों की जांच कर रही थी. लेकिन अब NIA के पास भी वह शक्ति है कि वह विदेश में जाकर कार्रवाई कर सकती है.

गृह मंत्रालय ने अंडरवर्ल्ड डॉन दाऊद इब्राहिम पर शिकंजा कसने का एक नया प्लान तैयार किया है, इसी के अंतर्गत अब दाऊद इब्राहिम से जुड़े मामलों पर जांच का जिम्मा NIA को दिया गया है.

दाऊद इब्राहिम, D कंपनी और उससे जुड़े गुर्गों के खिलाफ UAPA के तहत मामले पहले भी दर्ज हैं. अब NIA भी इसी के तहत कार्रवाई करेगी. गृह मंत्रालय के मुताबिक, D कंपनी और दाऊद इब्राहिम भारत में टेरर फंडिंग, नार्को टेरर, ड्रग्स स्मगलिंग और फेक करेंसी (FICN) का व्यापार कर आतंक फैलाने का काम कर रहे हैं.

इतना ही नहीं दाऊद इब्राहिम और इसकी D कंपनी, लश्कर ए तैयबा (LeT), जैश ए मोहम्मद (JeM) और अल कायदा के जरिए भारत में आतंकी गतिविधियों को अंजाम दे रही है.गृह मंत्रालय के मुताबिक, NIA सिर्फ दाऊद इब्राहिम और उसकी D कंपनी की आतंकी गतिविधियों की ही जांच नहीं करेगा बल्कि अंडरवर्ल्ड डॉन के गुर्गे छोटा शकील, जावेद चिकना, टाइगर मेनन, इकबाल मिर्ची (मृत), दाऊद की बहन हसीना पारकर (मृत) से जुड़ी आतंकी गतिविधियों की जांच भी करेगी.

दाऊद को भारत ने घोषित किया था डेजिग्नेटेड आतंकी

UN ने दाऊद इब्राहीम को ग्लोबल टेररिस्ट घोषित कर रखा है. साथ ही भारत ने भी UAPA के तहत दाऊद इब्राहिम को डेजिग्नेटेड आतंकी घोषित किया है. जानकारी ये भी है कि इस समय दाऊद इब्राहिम पाकिस्‍तान में छिपा हुआ है और कराची के एक पॉश इलाके में ठिकाने बदल-बदल कर रहता है. NIA से जुड़े सूत्रों के मुताबिक दाऊद इब्राहिम पर NIA 120B और UAPA की अलग-अलग धाराओं के आधार पर शिकंजा कस रही है.

Leave a Response