देश/प्रदेश

पानी की गुणवत्ता पर उठे सवालों पर शासन गंभीर

देहरादून, भारतीय मानक ब्यूरो की पानी के नमूनों की जांच रिपोर्ट चार दिन बाद भी नहीं मिल सकी है। वहीं, शासन ने जल संस्थान के अधिकारियों की बैठक बुलाई है। बैठक में पानी की शुद्धता को लेकर उठे बवाल पर मंथन किया जा सकता है।

हाल ही में केंद्रीय खाद्य एवं उपभोक्ता मंत्रलय ने भारतीय मानक ब्यूरो के आंकड़े जारी किए थे। इसमें पानी की गुणवत्ता में देहरादून को 18वां स्थान मिला था।

इसमें यह भी कहा गया था कि दून में 10 जगहों से पानी के नमूने लिए गए थे, जो शुद्धता के मानकों पर खरे नहीं उतरे। इसके बाद जल संस्थान की खूब किरकिरी हुई थी। इधर, आंकड़े जारी होने पर शासन से जल संस्थान विभाग में हड़कंप मच गया है। मुख्य सचिव और पेयजल सचिव ने जल संस्थान अधिकारियों की बैठक बुलाई है।

सूत्रों की मानें तो इस बैठक में भारतीय मानक ब्यूरो की रिपोर्ट पर मंथन हो सकता है। वहीं जल संस्थान के अधिकारी भी इस रिपोर्ट को लेकर बेहद गंभीर है।

पानी की लीकेज मरम्मत से क्लोरीन की उचित मात्र फीड करने के निर्देश दिए गए हैं। रिपोर्ट का भी इंतजार किया जा रहा है। रिपोर्ट मिलने के बाद पानी को शुद्ध बनाने को लेकर योजना बनाई जाएगी, हालांकि अभी अफसर शुद्ध पानी ही बता रहे हैं।

जल संस्थान की महाप्रबंधक (मुख्यालय) नीलिमा गर्ग ने बताया कि भारतीय मानक ब्यूरो की रिपोर्ट नहीं मिल सकी है। रिपोर्ट मिलने के बाद ही कुछ कह पाना संभव होगा। उन्होंने दावा किया कि दून में सभी जगह जल संस्थान की ओर से दिया जा रहा पानी पीने योग्य है।

विशेष