विविध

गूगल ने इस साल लोन देने वाले दो हजार से ज्यादा ऐप्स को हटाया

गूगल ने इस साल जनवरी से अब तक भारत के प्ले स्टोर से कर्ज की पेशकश करने वाली दो हजार से अधिक ऐप को हटा दिया है. कंपनी के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि शर्तों का उल्लंघन, जानकारी को गलत तरीके से पेश करने और संदिग्ध ऑफलाइन व्यवहार के लिए इन ऐप के खिलाफ कार्रवाई की गई है. टेक्नोलॉजी क्षेत्र की दिग्गज कंपनी आने वाले हफ्तों में इस क्षेत्र में नीतियों को कड़ा करने की भी कोशिश कर रही हैं.

गूगल ने यूजर्स की सुरक्षा को बताया प्राथमिकता

गूगल के एशिया प्रशांत क्षेत्र के वरिष्ठ निदेशक और ट्रस्ट और सुरक्षा प्रमुख सैकत मित्रा ने कहा कि कंपनी उन सभी क्षेत्रों में विनियमों का पालन करने के लिए प्रतिबद्ध है, जिनमें वह संचालन करती है. उन्होंने डिजिटल मंचों पर होने वाले ऑनलाइन नुकसान को रोकने के लिए पर्याप्त प्रयास के सवाल पर कहा कि गूगल की प्राथमिकता और इसके मूल मूल्य हमेशा यूजर्स की सुरक्षा के आस-पास रहे हैं.

मित्रा ने कहा कि उन्होंने जनवरी से लेकर अब तक कर्ज की पेशकश करने वाली 2,000 से अधिक ऐप को भारत के प्ले स्टोर से हटाया है. यह कार्रवाई प्राप्त सबूत और जानकारी, नीतियों के उल्लंघन, खुलासा करने वाली सूचना की कमी और गलत सूचना देने के आधार पर की गई है. उन्होंने सुझाव दिया कि ऋण ऐप समस्या चरम पर है और इस मुद्दे पर ध्यान केंद्रित करने से इसका हल ढूंढा जा सकता है.

इससे पहले देश की दिग्गज कंपनी दूरसंचार कंपनी भारती एयरटेल (Bharti Airtel) ने इंटरनेट क्षेत्र की दिग्गज कंपनी गूगल (Google) को पिछले महीने 734 रुपये प्रति शेयर के भाव पर 7.1 करोड़ से ज्यादा इक्विटी शेयर आवंटित किए हैं. एयरटेल ने शेयर बाजारों को भेजी सूचना में कहा कि यह आवंटन गूगल की एयरटेल में एक अरब डॉलर का निवेश करने की प्रतिबद्धता के तहत किया गया है. इसमें कंपनी में 70 करोड़ डॉलर (करीब 5,224 करोड़ रुपये) का इक्विटी निवेश शामिल है.

डील के बाद भारती एयरटेल ने रेगुलेटरी फाइलिंग में कहा कि Google, कंपनी के कुल पोस्ट-इश्यू इक्विटी शेयरों का 1.2 फीसदी हिस्सेदार होगा. कंपनी ने बताया कि एयरटेल के स्पेशल कमेटी ऑफ डायरेक्टर्स ने इस आवंटन के लिए मंजूरी दी थी.

Leave a Response