राष्ट्रीय

Google Chrome के यूजर्स हो जाईये सावधान, हैकर्स के निशाने पर हैं आप

दुनियाभर में बड़ी संख्या में लोग Google Chrome का इस्तेमाल करते हैं. इंटरनेट की दुनिया में यह सबसे ज्यादा पॉपुलर इंटरनेट ब्राउजर्स में से एक है, जिसे हर दिन लाखों लोग यूज करते हैं. मिनिस्ट्री ऑफ इलेक्ट्रॉनिक्स और आईटी ने इस ब्राउजर को लेकर एक चेतावनी जारी की है, जिसके बाद आपको सावधान रहने की जरूरत है.

मिनिस्ट्री ऑफ इलेक्ट्रॉनिक्स और आईटी की कंप्यूटर इमरजेंसी रिस्पॉन्स टीम (CERT-IN) के मुताबिक, Google Chrome यूजर्स ब्राउजर में सिक्योरिटी खामियों के कारण यूजर्स पर साइबर अटैक का शिकार हो सकते हैं. CERT-IN ने सभी क्रोम ब्राउजर यूजर्स के लिए यह चेतावनी जारी की है. एजेंसी ने इसकी गंभीरता को हाई रेटिंग दी है.

CERT-IN ने बताया है कि Google Chrome में कई सारी खामियां देखी गई हैं, जिसकी मदद से हैकर्स सिस्टम को टार्गेट कर सकते हैं. एजेंसी की मानें तो साइबर अटैकर्स इन लूपहोल्स का फायदा उठाकर यूजर्स को टार्गेट कर सकते हैं. इन दिक्कतों को Google Chrome 98.0.4758.80 के पहले के वर्जन में स्पॉट किया गया है.

CERT-IN का सुझाव है कि यह दिक्कतें- सेफ ब्राउजिंग, रियडर मोड, वेब सर्च, थंबनेल टैप स्ट्रिप, स्क्रीन कैप्चर, विंडो डायलॉग, पेमेंट, एक्सटेंशन, एक्सेसबिल्टी और कास्ट, फुल स्क्रीन मोड के गलत इम्प्लीमेंटेशन, स्क्रॉल, एक्सटेंशन प्लेटफॉर्म और पॉइंटर लॉक से जुड़ी हुई हैं.

हालांकि, गूगल ने इन दिक्कतों और बग्स को दूर करने के लिए एक अपडेट जारी कर दिया है. बग्स फिक्स की डिटेल्स नहीं बताई गई हैं. गूगल ने बताया है कि लेटेस्ट अपडेट सिक्योरिटी से जुड़ी 27 दिक्कतों को दूर करता है. रिपोर्ट्स की मानें तो ज्यादातर लोगों तक लेटेस्ट अपडेट पहुंच जाने के बाद ही बग्स से जुड़ी डिटेल्स शेयर की जाएंगी.

अगर आप भी Google Chrome का पुराना वर्जन इस्तेमाल कर रहे हैं, तो जल्द ही इसे अपडेट कर लें. 1 फरवरी को गूगल की ओर से दी जानकारी में बताया गया था कि लेटेस्ट अपडेट रोलआउट कर दिया गया है और यह यूजर्स तक आने वाले दिनों में पहुंच जाएगा. विंडोज यूजर्स के लिए लेटेस्ट वर्जन Chrome 98.0.4758.80/81/82 है, जबकि macOS और Linux यूजर्स के लिए 98.0.4758.80 लेटेस्ट वर्जन है.

Leave a Response